क्या आप भी IPL के भूत है

भारत में क्रिकेट के लोगो अब पहले जैसे नहीं रहे, अब इन लोगो को कुछ नए अंदाज में बुलाया जाता है – भूत (Ghost) जी हाँ क्या आप क्रिकेट के भूत है ? क्या आपको आईपीएल-IPL-Indian Premier League का भूत सवार है ? क्या आप CRICKET के बिना नहीं रह सकते, तो आइये  यहाँ पर कुछ बाते क्रिकेट के बुखार पर

क्या आप भी IPL के भूत है Indian Premier League

क्या आप भी IPL के भूत है Indian Premier League

आजकल हिंदुस्तान में अधिकांश लोगो पर यदि कोई भूत सवार है तो वह है किरकिटिया भूत अर्थात क्रिकेट का भूत. क्या बच्चे, क्या बुढ्डे, क्या युवक, क्या युवतियाँ, आफिस के चपरासी से लेकर बॉस तक और सास  से बहु तक, सब पर सिर्फ एक रंग चढ़ा है और वह है क्रिकेट का रंग.




 

हिमालय की तैयारियों से लेकर बंगाल की खाड़ी तक आप किसी से भी कह दे , भैय्या आपको IPL क्रिकेट का व्यसन है? वह ही भरेगा. बड़ा खतरनाक होता है यह क्रिकेट का भूत . जिस भी प्राणी पर यह सवार हो जाता है. उसका खाना पीना सब एक कोने में धरा रह जाता है. प्रेमी अपनी प्रेमिकाओ को, पतिगण अपनी धर्म पत्नियों को भूल जाते है इस भूत के कारण. उन्हें तो बस क्या स्कोर हुआ?

 

कौन गया? यह याद रहता है. और जिस पर भी यह भूत सवार हो जाता है, उसकी रातो की नींद हराम हो जाती है. क्योकि हर करवट के साथ वह स्कोर सोचते और फिर उसके गणित में ही उलझता रहता है. खुदा न खास्ता उसे नींद आ भी गई, तो सपने में उसे सचिन या धोनी ही दिखाई देंगे.

 

आप क्रिकेट के भू से ग्रसित किसी भी प्राणी से क्रिकेट के बारे में चाहे जो पूछिए, मजाल कि वह चुप रह जाए. मसलन क्रिकेट कब से शुरू हुआ? किसने लगातार तीन सेंचुरी मारी? गांगुली के पिताजी का नाम क्या है? कौनसा IPL खिलाडी सबसे तेज गेंद फैकता है? और तेज फैकता है तो किस गति से उसकी गेंद जाती है?

 

कपिल देव ने सन १९८२ में फलों मेच की पहली इनिगं में ४ थ्रो बाल पर किसको आउट किया था या गली क्या है? गुगली क्या है? आदि सैकड़ो प्रश्नों का उत्तर आपको ऐसे मिलेगा मानो आप किसी कंप्यूटर से साक्षात्कार कर रहे हों.

 

मजाल कि कहीं से कहीं तक जरा सी भी गलती हो जावे. यहाँ तक कि कोई क्रिकेट खिलाड़ी कितनी बजे क्या करता है? इसका जवाब भी इस लोगो के पास मिल जावेगा. इसके विपरीत, इन्ही प्राणियों से इनके बाबा दांदो के नाम पूछो अथवा क्रिकेट प्रेमी ऐसे कंप्यूटरराइज्ड दिमाग वाले किसी विद्यार्थी से उसके कोर्स के बारें में पूछों तो वह बंगले झौकता नजर आएगा.

 

क्रिकेट के रंग में रंगें इन IPL क्रिकेट प्रेमियों का स्वभाव भी गिरगिट जैसा होता है. उदाहरण कोई खिलाड़ी यदि दनादन रन बनाता है, सेंचुरी पर सेंचुरी मारता है तो ये उसे सर पर बैठा लेते है. इनका बस चले तो उसका फोटो ट्रोफी में जड्वाकर उसे भी पहनना चालू कर दे और कहीं बेचारा खिलाडी एक दो मेचेस में बदकिस्मती से यदि रद्दी प्रदर्शन कर दे तो फिर देखो किस कदर भिन्नाते है. ये लोग? उसकी सारी इज्जत, एक मिनिट में ताक पर रख देते है. उस खिलाडी के प्रति उनका पूर्व सम्मान नहीं कहाँ काफूर हो जाता है.

 

एक बात और है, जिन पर किरकिटिया भुत सवार होता है. वे क्रिकेट में इतने खो जाते है. कि क्रिकेट के किसी मैच की जीत पर बल्लियों उछलते है, मानो कोई रुका हुआ ब्याह निबट गया हो. उसके विपरीत, किसी मैच में हार जाने पर ये ही लोग ऐसा मातम मनाते है, मानो कि इसके चेहरों पर छाया हुआ मातम देखने लायक होता है.

 

पता नहीं क्रिकेट में सर से लेकर पाँव तक डूब कर यह पीढ़ी देश को क्या देना चाहती है? क्रिकेट का ज्ञान अथवा इसका ऐसा कौन सा पक्ष है, जो व्यावहारिक रूप से उपयोगी है? अगर क्रिकेट महज मनोरंजन है, तो इतने अधिक समय खाने वाले इस खेल के बजाय कम समय लेने वाले और अधिक मनोरंजक खेलों को इतना महत्व क्यों नहीं दिया जाता है.

 

सम्बंधित पोस्ट

Sports Information

जीवन में खेलो का महत्व Sports Importance

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

1 Response

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *