चारू चन्द्र की चंचल किरणें


चारू चन्द्र की चंचल किरणें खेल रही है जल थल में,

स्वच्छ चाँदनी बिछी हुई है अवनि और अम्बल में.

पुलक प्रकट करती है धरती हरित तृणों की नौकों से,

मानो झूम रहे है तरु भी मंद पवन के झोकों से.




सन्दर्भ प्रसंग – प्रस्तुत पद्याश राष्ट्रकवि मैथलीशरण गुप्त द्वारा रचित पंचवटी खंडकाव्य से है. यहाँ पर कवि ने पंचवटी के रात्रिकालीन प्राकृतिक सौन्दर्य का वर्णन किया है.

चारू चन्द्र की चंचल किरणें

चारू चन्द्र की चंचल किरणें

व्याख्या – सुन्दर चन्द्रमा की चंचल किरणें जल और स्थल पर क्रीड़ाये कर रही है. चन्द्रमा की स्वच्छ, सफ़ेद चाँदनी पृथ्वी और आकाश में फैली हुई है. इस चाँदनी के स्पर्श से पृथ्वी हर्षित है. वह अपनी इस प्रसन्नता को हरी भरी घास के तिनकों की नौकों द्वारा प्रकट कर रही है. वृक्ष भी ऐसे लग रहे है, मानो वे वायु के मंद – मंद झोकों से स्पर्श पाकर आनंद के साथ झूम रहे हों.

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

2 Responses

  1. Rash says:

    I want full summary of panchavati book

  2. Rash says:

    I want full summary of panchavati book

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *