जगदीश चन्द्र माथुर Life Introduction


जगदीश चन्द्र माथुर का जीवन परिचय

जगदीश चन्द्र माथुर

जगदीश चन्द्र माथुर

श्री जगदीश चन्द्र माथुर का जन्म १६ जुलाई सन १९१७ में उत्तर प्रदेश के खुर्जा नगर में हुआ. आपके ऊपर माता पिता के त्याग तपस्या और संस्कारित जीवन का अमिट प्रभाव पड़ा.




नाटको में विशेष रूचि होने के कारण छात्र जीवन से ही आपको रंगमंच के सम्पर्क में आने का अवसर मिला. आपके प्रयास से ही विश्वविद्यालय के रंगमंच पर अभिनीत होने वाले हिंदी नाटको को गति मिली.

जगदीश चन्द्र माथुर बिहार राज्य के शिक्षा सचिव, आकाशवाणी के महानिदेशक, सूचना प्रसारण मंत्रालय के संयुक्त सचिव, नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा नई दिल्ली के अध्यक्ष और केन्द्रीय गृह मंत्रालय में हिंदी सलाहकार रहे.

नाटककार श्री जगदीशचन्द्र माथुर १४ मई सन १९७८ को दिव्य ज्योति में लीन हो गए. कौनार्क, शारदीया, भौर का तारा, ओ मेरे सपने, दस तस्वीरे, बोलते क्षण व रीढ़ की हड्डी आदि उनकी उल्लेखनीय रचनाये है.

एतिहासिक तथा सांस्कृतिक पृष्ठभूमि पर लिखे गए एकांकियो की भाषा तत्सम प्रधान संस्कृतनिष्ठ है. वाक्य विन्यास दीर्घ है, लेकिन उनमे बौधगम्यता तथा सरलता है. भाषा सरल, सहज और प्रवाहपूर्ण है. नाटको और एकांकियो में नए-नए विषयों को लिया गया है. भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी, आधुनिक युग के सफल नाटककार और एकांकीकार श्री जगदीशचन्द्र माथुर का हिंदी के नाटककारों में विशिष्ट स्थान है.

इनकी कहानी में कौनार्क का सूर्य मन्दिर उड़ीसा प्रान्त उड़ीसा प्रान्त में पुरी के पास समुद्रतट पर स्थित है. कोणार्क मात्र एक भौतिक स्मारक नहीं, बल्कि भारत के सांस्कृतिक वैभव की धरोहर भी है. कोणार्क मंदिर भगवान भास्कर के विशाल रथ के प्रतिरूप में निर्मित है. प्रस्तुत एकांकी में इस मंदिर के कलश स्थापन के समय आये व्यवधान काल का चित्रण है. एकांकी में कोणार्क मंदिर के निर्माण की पृष्ठभूमि और प्रेरणा के साथ-साथ उसके शिल्प तथा शिल्पियों के मनोभावों का भी उल्लेख किया गया है. कोणार्क के शिल्प में मानवीय ही नहीं, जीवन का मुर्तिमय अंकन है. इसमें लोकरंजन ही नही, जीवन का आदि और उत्कर्ष भी समाहित है. एकांकी का चरमबिन्दु है महादंडपाशिक की वह क्रूर आज्ञा जिसमे कलश स्थापित न होने पर शिल्पियों के हाथ काटने का दंड निश्चित किया गया है. एकांकी में तत्कालीन सामाजिक और राजव्यवस्था की झलक भी दिखाई देती है. एकांकी का अंत सुखद है.

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *