धर्मग्रंथ वेद पुराण इतिहास Devotional History

धर्मग्रंथ वेद पुराण Veda Scriptures, Mythology History, भारत का इतिहास History of India

उत्तर में हिमालय से लेकर दक्षिण में समुद्र तक फैला यह उपमहाद्वीप भारतवर्ष के नाम से ज्ञात है, उसी तरह से धर्मग्रंथ वेद पुराण इतिहास है, जिसे महाकाव्य तथा पुराणों में भारतवर्ष अर्थात भरत का देश तथा यहाँ के निवासियों को भारती अर्थात भरत की सन्तान कहा गया है. यूनानियों ने भारत को इंडिया तथा मध्यकालीन मुस्लिम इतिहासकारों ने हिन्द अथवा हिन्दुस्तान के नाम से सम्बोधित किया है.




भारतीय इतिहास को अध्ययन की सुविधा के लिए तीन भागों में बाटां गया है. प्राचीन भारत मध्यकालीन भारत एवं आधुनिक भारत. यहाँ प्रत्येक खंड का संक्षिप्त उल्लेख किया गया है.

धर्मग्रंथ वेद पुराण इतिहास Devotional History

धर्मग्रंथ वेद पुराण इतिहास Devotional History

प्राचीन भारत के धर्मग्रंथ वेद पुराण इतिहास

  • प्राचीन भारतीय इतिहास के स्त्रोत और धर्मग्रंथ वेद पुराण इतिहास
  • प्राचीन भारतीय इतिहास के विषय में जानकारी मुख्यत: चार स्त्रोतों से प्राप्त होती है.
  • धर्मग्रंथ
  • एतिहासिक ग्रंथ
  • विदेशियों का विवरण
  • पुरातत्व सम्बंधी साक्ष्य

 

धर्मग्रंथ एवं एतिहासिक ग्रंथ से मिलनेवाली महत्वपूर्ण जानकारी

  • भारत का सर्वप्राचीन धर्मग्रंथ वेद है, जिसके संकलनकर्ता है, महर्षि कृष्ण द्वेपायन वेदव्यास
  • सबसे प्राचीन वेद ऋग्वेद, एवं सबसे बाद का वेद अथर्ववेद है.
  • ऋग्वेद में मंडलों की संख्या १० है. देवता सोम का उल्लेख ऋग्वेद के ९ वे मंडल में है.
  • ऋग्वेद में सूक्तों एवं श्लोको ऋचाओं की संख्या क्रमश १०२८ एवं १०४६२ है.
  • वेद के श्लोकों को ऋचायें कहा जाता है.
  • चातुष्वर्ण्य समाज की कल्पना का आदिस्त्रोत ऋग्वेद के १० वे मंडल में वर्णित पुरुष सूक्त है.
  • वामनावतार के तीन पंगों के आख्यान का प्राचीनतम स्त्रोत ऋग्वेद है.
  • यजुर्वेद को गद्य एवं पद्य वाला वेद कहते है.
  • सामवेद को भारतीय संगीत का जनक कहते है.
  • रोंग निवारक, तन्त्र मन्त्र, जादू टोना, शाप, वशीकरण, विवाह, प्रेम, राजकर्म, मात्रभूमि आदि विविध विषयों से सम्बंधित वेद अथर्ववेद से जुड़े हुए है.
  • पुराणों में भारतीय एतिहासिक कथाओं का सबसे अच्छा विवरण मिलता है.
  • लोह्मर्ष एवं उनके पुत्र उग्रश्रवा पुराणों के रचियता माने जाते है.
  • पुराणों की संख्या १८ है.
  • मत्स्यपुराण सबसे प्राचीन एवं प्रमाणिक पुराण है.
  • विष्णुपुराण मौर्यवंश से, वायुपुराण गुप्तवंश से तथा मत्स्यपुराण आंध्र सातवाहन वंश से सम्बन्धित है.
  • मनुस्मृति ग्रंथ स्मृति ग्रंथों में सबसे प्राचीन एवं प्रामाणिक है.
  • जातक में बुद्ध की पूर्वजन्म की कहानी वर्णित है.
  • आगम जैन साहित्य को कहा जाता है.
  • भगवतीसूत्र में महावीर के जीवन कृत्यों तथा एनी समकालिकों के साथ उनके सम्बंधो का विवरण मिलता है.
  • कल्पसूत्र से जैन धर्म का प्रारम्भिक इतिहास ज्ञात होता है.
  • अर्थशास्त्र के लेखक कौन है – और ये लेख किसने लिखे ? – चाणक्य कोटिल्य या विष्णुगुप्त अर्थशास्त्र १५ अधिकरणों में विभाजित है.
  • कल्हण के द्वारा संस्कृत साहित्य में एतिहासिक घटनाओं को क्रमबद्ध लिखने का सर्वप्रथम प्रयास किया गया.
  • कल्हण द्वारा रचित पुस्तक है. राज तरंगिनी, जिसका सम्बंध है कश्मीर के इतिहास से .
  • अरबों की सिंध विजय का वृत्तांत सुरक्षित है चचनामा जिनके लेखक अली अहमद.
  • अष्टाध्यायी के संस्कृत भाषा व्याकरण की प्रथम पुस्तक लेखक हिया पाणिनी.

 

सम्बंधित पोस्ट

दिल्ली शहर की हिस्ट्री

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *