पृथ्वी का जलमंडल Hydrosphere Information


पृथ्वी का जलमंडल स्तर जानिये

सम्पूर्ण पृथ्वी का ¾  भाग लगभग 71% पर पृथ्वी का जलमंडल का विस्तार है. पृथ्वी पर उपस्थित जल की कुल मात्रा का जल महासागरो में है, जो खारा है. जल राशि का मात्र 2.5% भाग ही स्वच्छ जल या मीठा जल है.

महासागरीय जल के दो महत्वपूर्ण गुण है. तापमान और लवणता.



लवणता को प्रति हजार में व्यक्ति करते है, समुद्री जल की ओसत लवणता लगभग 35 प्रति हजार होती है.

समान खारेपन वाले स्थानों को मिलाकर खिंची गई रेखा का समलवण रेखा कहते है.

20 डिग्री से 40 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 10 डिग्री से 30 डिग्री अक्षांशो के मध्य सबसे अधिक लवणता पायी जाती है.

तुर्की की वान झील की लवणता सबसे अधिक 330% है.

गाई आट सपाट शीर्ष वाले समुद्र पर्वतों को गाई आट कहते है.

प्रशांत महासागर में गुआम द्वीप के समीप स्थित मेरियाना गर्त सबसे गहरा गर्त है. इसकी गहराई लगभग ग्यारह किमी 11033 मी है. इसे चैलेंजर गर्त भी कहते है.

शोल – जलमग्न उत्थान का वह भाग जहाँ जल की गहराई छिछली होती है. शोल कहलाता है. जल प्रवाह से बना नही होता है.

ग्रेट बेरियर रीफ – यह आस्ट्रेलिया के क्लींसलैंड के समीप संसार की सबसे बड़ी प्रवाल भित्ति है. यह प्रशांत महासागर में है.

जलमंडल का वह बड़ा भाग जिसकी कोई निश्चित सीमा न हो. महासागर कहलाता है. सबसे बड़ा महासागर प्रशांत महासागर है .

समुद्र जलमंडल का वह बड़ा भाग जो तीन तरफ जल से घिरा हो और एक तरफ महासागर से मिला हो, समुद्र कहलाता है.

खाड़ी – समुद्र का स्थलीय भाग में प्रवेश कर जाने पर जो जल का क्षेत्र बनता है. उसे खाड़ी कहते है.

बे – इसका दो किनारा स्थल से घिरा होता है, एक तरफ टापुओ का समूह होता है. और दूसरी तरफ का मुहाना समुद्र से मिला होता है.

सामान्यत: महासागरीय जल का तापमान लगभग 5 डिग्री सेल्सियस से 33 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है.

आकार में अंतर के कारण अटलांटिक महासागर में वार्षिक तापान्तर प्रशांत महासागर की अपेक्षा अधिक होता है.

उत्तरी गोलार्ध में दक्षिण गोलार्ध की तुलना में तापान्तर अधिक होता है.

 

 

हिन्द महासागर पृथ्वी का जलमंडल

इसके उत्तर में एशिया महाद्वीप दक्षिण में अन्टार्कटिका महाद्वीप पूर्ण में आस्ट्रेलिया महाद्वीप तथा पश्चिम में अफ्रीका महाद्वीप है. यह एक अर्ध महासागर है. इसका अटलांटिक महासागर से मिला है. कर्क रेखा इस महासागर की उत्तरी सीमा है, इसमें भारत के दक्षिणी पश्चिमी तट के समीप लक्षद्वीप तथा मालदीव प्रवाल द्वीपों के उदाहरण है. मारीशस और रियूनियन द्वीप ज्वालामुखी प्रक्रिया से उत्पन्न द्वीप है. इस महासागर का सबसे बड़ा द्वीप मेडागास्कर है मेडागास्कर के पूर्व में मारीशस द्वीप है. इस महासागर में वास्तविक तटवर्ती सागर दो ही है. वे है लाल सागर और फारस की खाड़ी. अरब सागर तथा बंगाल की खाड़ी की गणना भी सागरों में ही की जाती है, लेकिन ये हिन्द महासागर के उत्तरी विस्तार मात्र ही है. डियागोगार्सिया द्वीप इसी महासागर में है.

 

प्रशांत महासागर पृथ्वी का जलमंडल

यह अपने सलग्न समुद्रो के साथ धरातल का 1/3 भाग ढकता है. इसका क्षेत्रफल 165723740 वर्ग किलीमीटर है. इसकी आकृति त्रिभुजाकार और क्षेत्रफल सम्पूर्ण स्थल के क्षेत्रफल से अधिक है. इसके शीर्ष जलडमरुमध्य पर तथा आधार अन्टार्कटिका महाद्वीप पर है. भूमध्य रेखा पर इसकी लम्बाई 16000 किमी से भी अधिक है इसके पश्चिम में एशिया तथा आस्ट्रेलिया महाद्वीप पूरब में उत्तरी और दक्षिण अमेरिका तथा दक्षिण में अन्टार्कटिका महाद्वीप है. प्रवाल भित्तियाँ प्रशांत महासागर की प्रमुख विशेषता है. इस विशाल महासागर में कुल मिलाकर 2000 से भी अधिक द्वीप है. प्रशांत महासागर का अधिकांश तटवर्ती सागर पश्चिमी भाग में है. इनमे बेरिंग सागर, आखोट्स्क सागर, जापान सागर, पीत सागर और पूर्वी चीन सागर आदि महत्वपूर्ण है. पूर्व की और केवल कैलीफोर्निया की खाड़ी ही प्रसिद्ध है. इसके बेसिन की ओसत गहराई 7300 मीटर है.

पृथ्वी का जलमंडल Hydrosphere Information in Hindi

पृथ्वी का जलमंडल Hydrosphere Information in Hindi

अटलांटिक महासागर पृथ्वी का जलमंडल

यह सम्पूर्ण संसार का छठा भाग है. इसका क्षेत्रफल 82963800 वर्ग किमी है. जो प्रशांत महासागर के लगभग आधा है. इसकी आकृति अंग्रेजी के एस आकार से मिलती जुलती है. इसके पश्चिम में दोनों अमेरिका तथा पूरब में यूरोप और अफ्रीका, दक्षिण में है अन्टार्कटिका. उत्तर में ग्रीनलैंड हडसन की खाड़ी, वाल्टिक सागर, उत्तरी सागर मग्नतट पर स्थित है. इस महासागर की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता मध्य अटलांटिक कटक है. यह उत्तर में आइसलैंड से दक्षिण में बोवेट द्वीप तक लगभग 14000 किमी लम्बा तथा 4000 मीटर ऊँचा है. यह एक जलमग्न कटक है, तो भी इसकी अनेक चोटियाँ जल से ऊपर उठकर छोटे-छोटे द्वीपों का रूप धारण कर गई है. अजोर्स का पाईको द्वीप तथा केप बर्दे द्वीप इसके प्रमुख उदाहरण है. सबसे तीखी छोटी भूमध्य रेखा के निकट सेंट पाल नामक द्वीप समूह की है. दक्षिण अटलांटिक महासागर में बरमूडा प्रवाल द्वीप और असेंसन, ट्रिस्ता दी कान्हा, सेंट हेलना, गुआ तथा बोवेट द्वीप ज्वालामुखी द्वीप है. यह महासागर 55 डिग्री उत्तरी अक्षांश के पास अधिक चौड़ा हो जाता है. जहाँ इसे टेलीग्राफिक पठार के नाम से पुकारा जाता है. भूमध्य रेखा के निकट रोमांश गम्भीर इसे दो भागों में बांटता है. उत्तरी भाग डोल्फिन श्रेणी तथा दक्षिणी भाग का नाम चैलंजर कटक है. अटलांटिक महासागर के तटों के साथ बेफिन की खाड़ी, हडसन की खाड़ी, उत्तरी सागर, बाल्टिक सागर, मैक्सिको की खाड़ी भूमध्य सागर तथा कैरीबियन सागर महत्वपूर्ण सागर है.

 

सम्बंधित पोस्ट 

जियोग्राफी की जानकारी

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *