बिज़नेस वेबसाइट में Visitor Strategy


How to plan for a New Hindi Website visitor strategy

हम अपनी वेबसाइट पर कम समय में अच्छे विजिटर कैसे ला सकते है ? आपके लिए यहाँ पर Visitor Strategy, Business Information, SEO Information and Tips.

How to plan for a New Hindi Website visitor strategy

How to plan for a New Hindi Website visitor strategy

सबसे पहले आपके मन की बात Visitor Strategy के साथ कैसे काम करे

आप हर दिन अपने बिजनेस के बारे में क्या सोचते है, आपको अपने व्यवसाय के लिए चिंता रहती है की हमारा व्यापार किस तरह से चलेगा या या हम इसे चला पाएंगे की नहीं, आपका दिमांग आपके बिज़नेस के लिए काम तो करता है मगर उससे ज्यादा आपको टेंसन देता रहता है.

 

Business Related आपके दिमांग में उठने वाले सवाल

आप किसी भी बिज़नेस को देख ले , सबके मन में एक जैसे सवाल ही आते है.




हम बिज़नेस कैसे करे ?

हमारा बिज़नेस ग्रो कैसे होगा ?

अपने बिज़नेस की प्लानिंग कैसे करे ?

एक अच्छे बिज़नेस के लिए हमें क्या स्ट्रेटेजी फॉलो करना चाहिए ?

किन-किन बातो का ध्यान बिज़नेस में ज्यादा रखना चाहिए ?

बिज़नेस में लोस से कैसे बचे?

Business Related आपके दिमांग में उठने वाले सवाल

Business Related आपके दिमांग में उठने वाले सवाल

Website Related आपके दिमांग में उठने वाले सवाल

अपनी वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक लाने के लिए क्या करे ?

एक महीने में 50000 से 100000 विजिटर अपनी वेबसाइट पर कैसे जनरेट कर सकते है ?

नई वेबसाइट पर ट्रैफिक के लिए किस टाइप से SEO का प्लान करे?

 

तो दोस्तों आइये इन सवालो के जवाब यहाँ पर उपलब्ध है. स्टार्ट करते है

बिज़नेस वेबसाइट में Visitor Strategy

बिज़नेस वेबसाइट में Visitor Strategy

 

(Domain Selection) आपकी वेबसाइट का डोमेन सिलेक्शन यूनिक और अच्छा होना चाहिए

सबसे पहले आप जो भी करना चाहते है या आप आपका बिजनेस या ब्लॉग वेबसाइट बनाना चाहते है, सबसे पहले आपको आपके Business Website Domain Name का सिलेक्शन करना होगा. सही Domain Selection से ही आपके वेबसाइट पर High Traffic मिलेगा.

आपको आपकी वेबसाइट के लिए 6 से 7 Digit का डोमेन (Domain Name) नाम का सिलेक्शन करना चाहिये. क्योकि इस डिजिट के डोमेन नाम बहुत अच्छे माने जाते है. और सर्च इंजन (Search Engine) भी अपने अकोर्डिंग ऐसे डोमेन को Good Rank और Good Traffic बहुत जल्दी मिलता है.

आपका Domain Name न्यू और Unique होना चाहिए जैसे – आप टेक्नोलॉजी से सम्बंधित वेबसाइट बनाना चाहते है आपने डोमेन नाम सेलेक्ट किया gadget, zdnet, cnet, gizmodo, psgtech ये कुछ नाम आपके लिए उदाहरण के तौर पर आपको बताये गए है.

 

(Google Friendly) अपनी वेबसाइट को गूगल के अनुकूल बनाये

जैसा की आप जानते है कि किसी भी काम को करने के लिए उस काम के अनुरूप आपको वो काम की पूरी जानकारी और उस काम को करने का पूरा ज्ञान होना आवश्यक है. उसी तरह वेबसाइट के बारे में भी होती है. गूगल से आपकी वेबसाइट को ७० से ८० % ट्रैफिक मिलता है. और उस ट्रैफिक के लिए आपकी वेबसाइट Google Friendly गूगल के अनुकूल बनी हुई होनी चाहिए. जिससे आपकी वेबसाइट गूगल रैंकिंग में टॉप पर हो और उसे अच्छा ट्रैफिक मिलता रहे. और ऐसा करना बहुत जरुरी भी है क्यों की आज के इस प्रतियोगिता Competition के ज़माने में आपकी वेबसाइट ही आपके लिए सब कुछ है इसलिए सभी ये चाहते है कि हमारी वेबसाइट गूगल पर टॉप पर रहे तो इसके लिए अपनी वेबसाइट की सेहत का ध्यान आपको खुद रखना होगा.

 

Bing और Yahoo के योगदान को न भूले

जी हाँ आपने सही सुना, आप गूगल के साथ-साथ बिंग और याहू (BING YAHOO SEARCH ENGINE) को ना भूले. माना की गूगल सर्च इंजन दुनिया में टॉप का search engine है. मगर गूगल के बाद Yahoo Search Engine, Bing Search Engine दुनिया में दुसरे नंबर पर आते है. आप वेबसाइट पर ट्रैफिक के लिए इन दोनों का भी इस्तेमाल कर सकते है. बस आपको इतना करना है. आप बिंग वेबमास्टर टूल (Bing Webmaster Tool) का इस्तेमाल करे. बिंग वेबमास्टर पर आप गूगल वेबमास्टर टूल जैसे ही इस्तेमाल कर सकते है. आपको बिंग वेबमास्टर टूल पर रजिस्ट्रेशन करना है. और इसके वेबमास्टर पर आपकी वेबसाइट को जोड़ना  है  मतलब की Url Submission करना है.

Twitter और Facebook Like से प्रभाव

याहू और बिंग से एक सबसे बड़ा प्रॉफिट यह भी है कि इन सर्च इंजन के अल्गोरिथम (Search Engine Algorithm) Twitter ट्विटर और  Facebook फेसबुक लाइक और शेयरिंग के अनुसार वेबसाइट की रैंकिंग को बढ़ाते है. जितने ज्यादा लोगो के द्वारा आपको लाइक्स और शेयरिंग मिलेगा उससे आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक और रैंकिंग में प्रगति (Progress) होगी.

 

(Mobile Friendly Website) आपकी वेबसाइट डिजाईन मोबाइल फ्रेंडली होना चाहिए

आपकी वेबसाइट गूगल के साथ साथ मोबाइल के अनुकूल (According to Mobile Friendly) भी होनी चाहिए. आज का जमाना स्मार्टफोन का है. और आप देख सकते है कि किसी व्यक्ति के पास कंप्यूटर, लैपटॉप, टेबलेट, जैसी चीजे ना होते हुए भी वो व्यक्ति अपने स्मार्टफोन से इन्टरनेट से जुड़ा हुआ रहता है. और आप देख सकते है कि आज के समय में 10 मे से 8 लोगो के पास आपको स्मार्टफोन मिलेगा ही. इसलिए आपकी वेबसाइट को इस टाइप से बनवाए और उसके अन्दर के डिज़ाइन संरचना (Design Structure) को मोबाइल फ्रेंडली बनाया जाये.

महत्वपूर्ण बात (Important Information about Visitor Strategy)

विशेषज्ञों द्वारा एक सर्वे के अनुसार एक घंटे में 28 % सर्च मोबाइल से हुआ है. तो इससे आप ये अंदाजा लगा सकते है कि किस तरह से लोग मोबाइल से इन्टरनेट पर सर्चिंग (Internet Searching) को ज्यादा बढ़ावा दिया जा रहा है. ये भी ध्यान रखे की अच्छे विजिटर आपको मोबाइल फ्रेंडली वेबसाइट (Mobile Friendly Website) के माध्यम से भी मिल सकते है.

 

(Guest Post) गेस्ट पोस्टिंग के द्वारा आप हाई ट्रैफिक High Traffic पा सकते है

सबसे बेहतरीन तरीका आपके लिए जो वेबसाइट ट्रैफिक के लिए हाई स्पीड बूस्टर (High Speed Booster) का काम करेगा. जिस तरह से एक कार रेसर अपनी कार में टर्बो बूस्टर का इस्तेमाल कार को हाई स्पीड देने के लिए करता है, उसी तरह हम गेस्ट पोस्ट का इस्तेमाल हमारे वेबसाइट पर अच्छे ट्रैफिक के लिए करते है.

गेस्ट पोस्टिंग आपको एक अच्छी वेबसाइट पर करना चाहिए. आप सर्च इंजन पर उन वेबसाइटों को सर्च करो जिन पर ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक रहता है. आप आपके सब्जेक्ट के अनुसार उन वेबसाइट पर आपकी गेस्ट पोस्टिंग कर सकते है. गेस्ट पोस्टिंग का मतलब ये नहीं की आप दूसरी वेबसाइट पर अपनी लिनक्स को पोस्ट करे बल्कि की इस पे ध्यान दो की आपका जो भी गेस्ट पोस्ट आप कर रहे है वो यूनिक हो और पढने में प्रेरक – प्रशंसात्मक (Useful) हो, इससे आपको फायदा ही होगा क्यों की जितना अच्छा आपको पोस्ट होगा उससे विजिटर आपकी वेबसाइट की तरफ आकर्षित होगा.

 

(Unique Content) आपकी वेबसाइट में यूनिक कंटेंट होना बहुत जरुरी है

इस चीज का महत्वपूर्ण ढंग से ध्यान रखे कि आपकी वेबसाइट का लेख नया (Unique Content) होना चाहिए. क्योकि गूगल आपकी वेबसाइट को टाइम-टाइम पर (Google Crowl) रीड करता रहता है. आपका कंटेंट जितना यूनिक रहेगा गूगल उसे अपने सर्च इंजन पर ज्यादा से ज्यादा शो करेगा. जिससे आपको बड़ी मात्रा में विजिटर मिल सके.

 

(The use of social networking weapons) सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट का इस्तेमाल करो

आपके वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा विसिटोर्स के लिए आपको सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट का इस्तेमाल बखूबी करना चाहिए. क्योकि सबसे ज्यादा ट्रैफिक आप आपकी वेबसाइट के लिए Social Websites सोशल वेबसाइट से ही कन्वर्ट कर सकते है. और आपको वर्ड की टॉप(Word Top Social Networking Websites) वेबसाइट

गूगल प्लस – Google.com

फेसबुक – Facebook.com

ट्विटर – Twitter.com

लिंक्दीन – LinkedIn.com

पिन्तेरेस्ट – Pinterest.com

स्तुम्ब्लयूपों – Stumbleupon.com

इन वेबसाइट पर अपने लिनक्स और फ्रेश कंटेंट को पोस्ट करे जिससे की आपको ज्यादा पोपुलेरिटी मिलेगी. ज्यादा लोग आपकी वेबसाइट को सोशल वेबसाइट पर Follow, Share, Like करेंगे. और हमें तो करना ही यही है यही करने से ही हमारे पास

 

वेबसाइट का डिजाईन SEO Friendly एस ई ओ फ्रेंडली होना चाहिए

ऊपर दी हुई सभी बातो के साथ साथ आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा की आपकी वेबसाइट SEO Friendly एस ई ओ फ्रेंडली होना जरुरी है. क्योकि बिना SEO के आप आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक नही ला सकते. इसके लिए आपको महत्वपूर्ण बाते ध्यान में रखना आवश्यक है.

सबसे पहले आपको वेबसाइट का ऑन पेज एस ई ओ (On Page SEO) On page optimization करना होना.

अपनी वेबसाइट के साईट मैप (Website Sitemap) पर वर्क करना होगा.

वेबसाइट रोबोट्स को चेक करे.

वेबमास्टर टूल पर वेबसाइट को ऐड करे.

गूगल एनालिटिक्स पर अपनी वेबसाइट को ऐड करे.

सर्च इंजन पर वेबसाइट को सबमिट करे.

गूगल प्लस, फेसबुक पेज क्रिएट करे.

इमेज ऑप्टिमाइजेशन का ध्यान रखे.

अच्छा कंटेंट पोस्ट करे.

 

(On page optimization in  Hindi) ऑन पेज ऑप्टिमाइजेशन

इसमें आपको वेबसाइट का सबसे पहले Meta Tags को सेट करना होगा – हम (Meta Title) (Meta Description) (Meta Keywords) के ऊपर पहले ध्यान देंगे. आपकी वेबसाइट पर इन मेटा टैग का होना अति आवश्यक है.

<!DOCTYPE HTML PUBLIC “-//W3C//DTD HTML 4.0 Transitional//EN”>
<html>
<head>
<title>Visitor Strategy in Hindi</title>
  <meta name=”keywordscontent=”visitor strategy, visitor strategy in hindi, information in hindi “>
  <meta name=”descriptioncontent=”All information about technology you can see all information in hindi.”>

</head>

<body>

This is a test text

</body>
</html>

ये एक तरह से आपको एक उदाहरण दिया गया है कि आप किस तरह से आपकी वेबसाइट पर Meta Tags को कैसे ऐड कर सकते है.

 

(Website Sitemap Generator) अपनी वेबसाइट पर साईट मैप जनरेट जरुर करे

अपनी वेबसाइट पर Sitemap ऐड करने के लिए आप गूगल पर सर्च करे (Sitemap Generator Tool) ये सर्च करने के बाद आपको बहुत से टूल शो होंगे. उनमे से कुछ नाम आपको यहाँ पर बता देते है.

https://www.xml-sitemaps.com

https://xmlsitemapgenerator.org

http://www.web-site-map.com   ……….etc

आपको जो भी वेबसाइट सेलेक्ट करते है आप उस वेबसाइट पर जाकर अपना साईट मैप को क्रिएट कर सकते है. आप जिस वेबसाइट पर जायेंगे सभी जगह एक जैसा फ़ॉरमेट मिलेगा – आपको Add Url Option में अपने यूआरएल को सबमिट (ADD) करना है और सबमिट कर देना है. जैसे ही आपका वेबसाइट सबमिट होगा आपका मैप तैयार हो चूका होगा बस आपको आपके साईट मैप को डाउनलोड करना है. Cpanel पर जाकर उसे ऐड कर दे. इसके साथ साथ गूगल वेबमास्टर टूल पर भी जाकर भी साईट मैप को ऐड करना होगा. इससे आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन पर ज्यादा ट्रैफिक मिलेगा.

 

(Robots.txt Generator) वेबसाइट का रोबोट क्रिएट करना न भूले

आपकी वेबसाइट का robots.txt file का होना बहुत महत्वपूर्ण है. आप आपकी वेबसाइट पर आपके अनुसार रोबोट्स को सेट कर सकते है. आप जो भी रोबोट क्रिएट करते है. उसे आपको आपके cpanel, और गूगल वेबमास्टर टूल पर ऐड करना होगा.

बेसिक रोबोट जो सभी वेबसाइट में इस्तेमाल होता है

User-agent: *

Disallow: /

————————————

User-agent: *

Disallow:

————————————

User-agent: *

Disallow: /

Allow:

————————————

User-agent: *

Disallow:

Allow: /

————————————

User-agent: *

Allow: /

————————————

रोबोट के सारे उदाहरण के लिए आप यहाँ पर देखे Robots.txt

(Google Webmaster Tool) गूगल वेबमास्टर टूल का इस्तेमाल

यह टूल से आपकी वेबसाइट के लिए एक डॉक्टर का काम करेगा आप इस टूल से अपनी वेबसाइट की पूरी रिपोर्ट को चेक कर सकते है. आपको सबसे पहले आपकी वेबसाइट को वेबमास्टर पर ऐड करना होगा. आपको वेबमास्टर टूल से वेरीफाई कोड को अपनी वेबसाइट पर ऐड करना होगा. उसके बाद आप आपके यूआरएल की हेल्थ को चेक कर सकते है. और इसी के माध्यम से आपकी वेबसाइट गूगल सर्च इंजन पर सबमिट होती है. आप इस टूल से आपकी वेबसाइट का एक-एक रिपोर्ट जैसे की आपकी वेबसाइट गूगल पर इंडेक्स हुई की नहीं, आपके क्रॉल एर्रोर्स, क्रॉल स्टैट्स, रोबोट्स, साईट मैप रिपोर्ट आदि सभी रिपोर्ट को चेक कर सकते है.

 

(Google Analytics Tool ) गूगल एनालिटिक्स टूल का इस्तेमाल

इस टूल्स से आप आपकी वेबसाइट को पूरी तरह से ट्रेस कर सकते है. सबसे पहले आपको आपकी वेबसाइट के यूआरएल को ऐड करना होगा, और ऐड करने के बाद आपकी वेबसाइट गूगल एनालिटिक्स के द्वारा आपको एक कोड वेरिफिकेशन करना होता है जिससे आपकी वेबसाइट को ट्रेस कर सके. आपकी वेबसाइट पर जितने भी विजिटर है. उसकी रिपोर्ट्स, किस सिटी, स्टेट, कंट्री से आपकी वेबसाइट पर कितना ट्रैफिक आ रहा है. ये सब आपको इस टूल्स से पता चलेगा.

Google + Page और Facebook Page पेज से आपके विजिटर बढेंगे

जी हाँ आपने सही सुना गूगल प्लस पर और फेसबुक पर आप आपका बिज़नेस पेज क्रिएट करके अपने बिज़नेस को सोशल नेटवर्किंग के माध्यम से प्रमोटे करने के साथ-साथ बहुमूल्य ट्रैफिक जनरेट भी कर सकते है. इससे आपको फायदा ये है कि ये दोनों वेबसाइट दुनिया की टॉप सोशल वेबसाइट है जहाँ पर अरबो खरबों में आपको लोग मिलेंगे. और इन्ही लोगो को आप आपका पेज शेयर करके आपकी वेबसाइट पर बड़ा ट्रैफिक पा सकते है.

(Good Content Strategy) आपकी वेबसाइट पर गुणवत्ता की सामग्री, कंटेंट क्वालिटी अच्छा होना Visitor Strategy में आपको हेल्प करेगा

आपकी वेबसाइट पर वेबसाइट का कंटेंट पूरा फ्रेश और यूनिक होना चाहिए. जितना ज्यादा यूनिक और नया आपका कंटेंट होगा उतनी जल्दी गूगल सर्च इंजन आपकी वेबसाइट को और आपके कंटेंट को रीड करेगा और सर्च इंजन पर आपकी वेबसाइट की रैंकिंग को टॉप पर लेकर आएगा. और अगर आप ऐसा करते है तो बेसक आपकी रैंकिंग आपके अनुसार सर्च इंजन पर टॉप पर नहीं रहेगी और आपकी वेबसाइट पर विजिटर अधिक से अधिक बने रहेंगे.

 

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *