यात्रा पर निबंध | Travel Essay in Hindi

यात्रा पर निबंध

यात्रा पर निबंध का रोचक वर्णन, किसी पर्वतीय स्थान का वर्णन

जीवन में कुछ ऐसे भी क्षण आते है. जिन्हें भूल पाना बड़ा कठिन हो जाता है. दूसरी बात यह की जीवन में कुछ ऐसे भी अवसर मिलते है. जो अत्यधिक रोचक और आनंददायक बन जाते है. सभी की तरह मेरे भी जीवन में कुछ ऐसे अवसर अवश्य आये है जिनकी स्मृति कर आज भी मेरा मन बाग़-बाग़ हो उठता है. उन रोचक और सरस क्षणों में एक क्षण मुझे ऐसा मिला जब मैंने जीवन में पहली बार एक पर्वतीय स्थान की सैर की. यही हम यात्रा पर निबंध के रूप में देखेंगे.




छात्रावस्था से ही मुझे प्रकृति के प्रति प्रेमाकर्षण, प्रकृति के कवियों की रचनाओ को पढने से पूर्वापेक्षा अधिक बढ़ता गया. प्रसाद, महादेवी, मुकुटधर, पाण्डेय आदि की तरह कविवर सुमित्रानंदन पंत की रचनाओं ने हमारे बचपन में अंकुरित प्रकृति के प्रति प्रेम मोह के जाल को और अधिक फैला दिया. इसमें मैं इतना फँसता गया कि मैंने यह निश्चय कर लिया कि कविवर सुमित्रानंदन पंत का पहाड़ी गाँव कौसानी एक बार अवश्य देखने जाऊँगा. अगर मंसूबे मजबूत हो तो उनके पुरे होने में कोई कसर नहीं रहती है. यह बात मुझे तब समझ में आ गई जब मैंने एक दिन कौसानी के के लिए यात्रा करने का निश्चय कर ही लिया.

 

गर्मी की छुट्टियाँ आ गई थी. स्कूल दो माह के लिए बंद हो गया था. एक दिन मैंने अपने इष्ट मित्रों से कोई रोचक यात्रा करने की बात शुरु कर दी. किसी ने कुछ और किसी ने कुछ सुझाव दिया. मैंने सबको कौसानी नामक पहाडी गाँव की सैर करने की बात इस तरह से समझा दी कि इसके लिए सभी राजी हो गए. एक सुनिश्चित दिन में हम चार मित्र कविवर पंत की जन्मस्थली कौसानी को देखने के लिए चल दिए. रेल और पैदल सफ़र करके हम लोग दिल्ली से सुबह चलकर कौसानी को पहुँच गए.

 

हम लोंगो ने देखा कि कौसानी गाँव एक मैदानी गाँव की तरह न होकर बहुत टेढ़ा-मैढा ऊपर नीचे बसा हुआ तंग गाँव है. तंग इस अर्थ में कि स्थान की कमी मैदानी गाँव की तुलना में बहुत कम है. यह बड़ी अच्छी बात रही कि हम लोगों का एक सुपरिचित और कुछ समय का सहपाठी कौसानी में ही मिल गया. अतएव उसने हम लोगों को इस पहाड़ी क्षेत्र की रोचक सैर करने में अच्छा दिशा निर्देश दिया.

 

यात्रा पर निंबध में हम लोगों ने देखा इस पर्वतीय क्षेत्र पर केवल पत्थरों का ही साम्राज्य है. लम्बे-लम्बे पेड़ों के सिर आसमान के करीब पहुँचते हुए दिखाई दे रहे थे. कहीं-कहीं लघु आकार में खेतों के कुछ फसलें थोड़ी बहुत हरीतिमा लिए हुए थी. बिना मेहनत और संरक्षण के पौधों से फूलों के रंग बिरंगे रूप मन को अधिक लुभा रहे थे. झाड़ियों की नामों निशान कम थे फिर भी पत्थरों की गोद में कहीं न कहीं कोई झाडी अवश्य दिख जाती थी जिसमें पहाड़ी जीव जंतुओं के होने का पता चलता था. उस पहाड़ी क्षेत्र में सैर के लिए बढ़ते हुए हम बहुत पतले और घुमावदार रास्ते पर ही जा रहे थे. ऐसा कोई रास्ता नहीं था जिसमे कोई चार पहिये वाला वाहन आ जा सके. बहुत दूर एक ही ऐसी सड़क दिखाई पड़ी थी.

 यात्रा पर निबंध

यात्रा पर निबंध

इस पर्वतीय क्षेत्र के निवासी हम लोगों को बड़ी ही हैरानी से देख रहे थे. उनक पत्थर जैसा शरीर बलिष्ठ और चिकना दिखाई देता था. वे बहुत सभ्य और सुशील दिखाई दे रहे थे. घूमते टहलते हुए हम लोग एक बाजार में गए. वहाँ पर कुछ हम लोगों ने जलपान किया. उस जलपान की ख़ुशी यह थी कि दिल्ली और दुसरे मैदानी शहरों गाँवों की अपेक्षा सभी सामान सस्ते और साफ़ सुथरे थे. धीरे-धीरे शाम हो गई. सूरज की डूबती किरणें सभी पर्वतीय अंग को अपनी लालिमा की चादर से ढक रही थी. रात होते-होते एक गहरी चुप्पी और उदासी छा गई. सुबह उठते ही हम लोगों ने देखा कि वह सारा पर्वतीय स्थल बर्फ में कैद हो गया है. आसमान में रुई सी बर्फ उड़ रही है. सूरज की आँखे उन्हें देर तक चमका रही थी. कुछ धुप निकलने पर हम लोग वापस आ गए.

सम्बंधित पोस्टहिंदी ब्लॉग

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

1 Response

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *