लक्ष्य निर्धारण पर फोकस करों

जीवन में बड़े लक्ष्य निर्धारण करों

जीवन में लक्ष्य निर्धारण करने के अवसर सदेव नहीं आते. याद रखे एक बार गलत रास्ते पर जाने के बाद हर कदम गलत्त पड़ता है. मानव एक सामाजिक प्राणी है. उसके कर्म केवल उसको ही प्रभावित नहीं करते है. बल्कि वे उस वृद्ध समाज को भी प्रभावित करते है, जिसका वह एक अंग होता है.

अतएव मानव के विकास में ऐसा प्रत्येक कर्म सहायक होता है, जो श्रेष्ठ, शुभ और ज्ञानपूर्वक हो, सभी के कष्टों को कम करने वाला हो, दूसरों को प्रेरणा व साहस प्रदान करने वाला हो तथा सामाजिक राजनीतिक एवं अन्य परिस्थितियों में सुधार लाने वाला हो, इसी से कहा जाता है कि हमें अपन कर्म और लक्ष्य बहुत सोच समझकर निर्धारित करना चाहिए.




जीवन का लक्ष्य निर्धारण होना जरुरी

जीवन का लक्ष्य निर्धारण होना जरुरी

पतझड़ की ऋतु आने पर वृक्ष की पत्तियाँ झड जाती है वह नितांत, कुरूप और मृतप्राय: हो जाता है. तदुपरांत बसंत ऋतु आती है और वृक्ष पुन: जीवन प्राप्त करके हरा भरा हो जाता है. इस घटनाक्रम की पुनरावृत्ति होती रहती है. यह क्रम अन्नतकाल से चला आ रहा है और अनंतकाल तक चलता रहेगा. वृक्ष के अस्तित्व का उदेश्य निरंतर पूरा होता रहता है. वह फूल फल एवं आश्रय प्रदान करेगा.

 

मानव के जीवन में भी यह प्रक्रिया होती है. प्रत्येक क्षण हमारी शारीरिक एवं मानसिक रूप से मृत्यु होती है. नवीन कोशिकाओ के निर्माण एवं नवीन विचारों के उदय द्वारा प्रतिफल हमारा पुनर्जन्म होता है अथवा हमारा नित्य पुन: निर्माण होता है. परन्तु ऐसा क्यों होता है? क्या हमने कभी इस पर विचार किया है. हमने जो भी लक्ष्य  निर्धारित किया होगा, उसी की सन्दर्भ में हमारे विचार होंगे, जो नित्य नया रूप धारण उदय होते रहेंगे और उन्ही के परिपेक्ष्य में हमारे चिंतन एवं व्यवहार का स्वरूप निर्धारण होता रहेगा, अपने लक्ष्य के सन्दर्भ में ही हम अपने प्रत्येक कार्य कलाप का मूल्याकन करते है.

 

स्वामी विवेकानंद ने बड़ा प्रेरक कथन किया है कि लक्ष्य को ही अपना जीवन कार्य समझो.

हर समय उसी का चिंतन करों, अंग्रेज विचारक कारलाइन ने भी कहा है कि अपने जीवन का एक लक्ष्य बनाईये और उसके बाद अपने पूरे शारीरिक और मानसिक बल को उस लक्ष्य की प्राप्ति में लगा दीजिये, जो ईश्वर ने आपको दिया है. प्रश्न हो सकता है कि जीवन का लक्ष्य क्या होना चाहिए. इस का उत्तर भौतिक आध्यात्मिक स्तरों को लक्ष्य करके विभिन्न प्रकार से दिया जा सकता है यथा ऋण कृत्वा घृत पिबेत से लेकर आत्म दर्शन तक जीवन के लक्ष्य हो सकते है. परन्तु अथर्व वेद का यह कथन सामान्यत: सभी व्यक्तियों पर लागू होता है. कौन नहीं जानता कि छोटे से बड़ा होना प्रकृति अथवा जीवन का शाश्वत एवं सर्वव्यापी नियम है.

 

लक्ष्य और उपाय, साध्य और साधन के सम्बंध में एक बात दृष्टव्य है.

कुछ लोग कहते है. साध्य की प्राप्ति होने पर प्रत्येक साधन पवित्र बन जाता है. इसके विपरीत कुछ व्यक्तियों का कहना है कि पवित्र साधनों द्वारा ही पवित्र लक्ष्य की प्राप्ति की जा सकती है. यह द्वितीय विचार पद्धति हमें अधिक उपयुक्त प्रतीत होती है, इस पद्धति में हा लक्ष्य तक पहुचने में प्रत्येक पल आनंद का अनुभव करेंगे. बबलू बोने पर आम के फल प्राप्त करना सम्भव नहीं है. कवि हरिवंश राय बच्चन का कहना है कि मानव के अंतर में जो कुछ उत्तम है, उसके अभिव्यंजन का जीवन यह अवसर है.

 

सुखमय वह जो इस तप में तत्पर है. जीवन के उद्देश्य के सामान्यत: दो रूप हो सकते है.

स्वार्थपरक और परमार्थपरक हम प्रत्येक कार्य शुद्ध साधन की दृष्टी से करे अथवा प्रत्येक कार्य करते समय यह ध्यान रखे कि स्वार्थ साधन के साथ-साथ इसके द्वारा अन्य कितने व्यक्तियों का भला हो सकता है. शुद्ध स्वार्थ साधन वाला मार्ग अनेक बाधाएँ उत्पन्न करता है. क्योकि इस मार्ग पर चलने वाला व्यक्ति दूसरों का अहित करके भी स्वार्थ सिद्धि नहीं करना चाहता है.

 

यहाँ तक कि कभी-कभी तो वह अपना स्वार्थ सिद्ध होते हुए न देखकर अन्य व्यक्ति या व्यक्तियों की हानि करने में सुख का अनुभव करता है. यानी अपनी नाक कटाकर दूसरों का अपशकुन करना चाहता है. परन्तु सामाजिक हित वाला मार्ग के समान सीधा चौड़ा रास्ता होता है. क्योकि उसमे प्रलोभन रूपी शराब की गंध द्वारा पथ भ्रष्ट होने के अवसर बहुत कम होते है.

 

जीवन में लक्ष्य निर्धारण करने के अवसर सदैव नहीं आते. याद रखे एक बार गलत रास्ते पर जाने के बाद हर कदम गलत पड़ता है. जिस प्रकार कोट का एक बटन गलत लगने पर अन्य सब बटन भी गलत लगने पर अन्य सब बटन भी गलत लग जाते है. अपने स्वभाव गुण कर्म की जानकारी पूरी सावधानी के साथ प्राप्त करें और तब जीवन का लक्ष्य निर्धारित करें.

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *