सिकंदर की मौत का रहस्य


कैसे मरा था सिकंदर ? जानिए रहस्य सिकंदर की मौत का

सिकंदर की मौत का इतिहास के सबसे आकर्षक चरित्रों में से एक है महान सिकंदर.  बचपन से विश्व विजेता बनने का ख्याब देखने वाले इस विजेता बनने का ख्वाब देखने वाले इस राजकुमार ने उसे पूरा करने के लिए बहुत ज्यादा समय नहीं लगाया. मकदूनिया के राजा फिलिप के महल में २० जुलाई ३५६ ईसा पूर्व पैदा हुए सिकन्दर में अपना राज्य फैलाने ही गहरी पिपासा थी. उसकी सैना उसे भगवान मानती थी.




उसके सपने को पूरा करने के लिए यह सेना बरसो अपने घर से दूर, उसके साथ युद्ध अभियान पर लगी रही और एक दिन जब वह थक गई, तो सिकंदर को अपना आखिरी समय बाद ही उसकी मौत हो गई. सिकंदर के जीवन के बारे में इतिहास में कई बाते दर्ज और उन पर कोई विवाद नहीं पर उसकी मौत को लेकर कभी एक राय नहीं बन पाई.

सिकंदर की मौत का रहस्य

Death Mastery of सिकंदर, सिकंदर की मौत का रहस्य

भारत से लौटने के बाद सिंकन्दर को कोई रोग हो गया था

जिसके कारण हुए बुखार ने उसकी जान ले ली. कुछ इतिहासकार मानते है कि वह रोग मलेरिया था. कुछ का कहना है कि टाईफाइड सिकंदर के समय के कुछ इतिहासकारों का कहना है कि उसकी मौत बुखार की वजह से हुई थी. जिस विषाणु के कारण उसकी मौत हुई थी, उसे नील नदी का विषाणु कहा जाता था.

कुछ का कहना है कि सिकंदर को उसके विश्वासपात्रों ने जहर दे दिया था. उसके बचपन के दोस्त सिपहसालारो की बगावत के कारण सिकंदर हद से ज्यादा शक्की हो गया था. अत: उन्होंने शराब में जहर मिलकर दे दिया था. सो उन्होंने जहर के कारण सिकंदर की तड़फ को बुखार की तड़प को नाम देते हुए नील नदी के विषाणुओ को दोषी ठहराया ज्यादातर अकादमिक इतिहासकारों का मानना है कि सिकंदर की मौत किसी बीमारी की वजह से हुई थी.

जिस वक्त सिकंदर की मौत हुई. उस वक्त बेविलोन में मलेरिया और ताइफ़ाइड जैसे रोग हुआ करते थे. बेबीलोन के शाही रोजनामचे से उसकी बीमारी के जो लक्षण मिले है, उनके आधार पर कहा जा सकता है कि वह रोग ताइफ़ाइड ही रहा होगा.

सिकंदर बहुत महत्वाकांक्षी था. उसकी माँ ओलिम्पस को उससे भी ज्यादा महत्वाकांक्षी माना जाता है. ओलीम्पस को शक था कि फिलिप, जो उससे चिढ़ता था, सिकंदर को राजा नहीं बनाएगा. उसने १६ साल की उम्र में ही सिकंदर को कई महत्वपूर्ण अभियानों पर भेजा था. फिलिप की भी हत्या हो गई. फिलिप की हत्या के बाद उसके विश्वासपात्रों ने एक बार उसे जहर देने की कोशिश की. सिकंदर ने प्याले को सूंघकर ताड़ लिया. दो बार उस पर युद्ध में तीर चलाया गया, पर सिकंदर बच गया.

ये ऐसी बाते है, जिनके कारण दो हजार साल बाद भी इस धारणा को बल मिला हुआ है. कि दरबारियों ने सिकंदर की हत्या करवाई थी. मौत की वक्त जब पूछा गया कि वह अपना उत्तराधिकारी किसे बनाना चाहता है, तो जर्जर सिकंदर कुछ नहीं बोल पाया. सिकंदर की मौत के कुछ बरसों बाद उसके पुरे परिवार को ख़त्म कर दिया गया.

 

कुछ साल पहले ब्रिटिश हिस्ट्री में एक लेख छपा था

जिसके मुताबिक, भारत से सिकंदर कुछ बन्दर ले गया था. और उन्ही में से एक ने उसे काट लिया था, जिससे उसकी मौत हुई. उस लेख पर कई विद्वानों ने सवालिया निशान लगाया है. सिकंदर की मौत की गुत्थी कभी नहीं सुलझाई जा सकती. कई विद्वानों ने लम्बे अध्ययन के बाद उसे बीमारी से हुई मौत मान लिया है.

 

सच्चाई जाँचने का कोई तरीका नहीं बचा

३३ साल की उम्र में जब सिकंदर मरा, तो उसकी दौनो बाहें फैली हुई थी. और हथेलियाँ खुली हुई. दार्शनिकों ने इसे मृत्यु के आह्वान से जोड़ा और कहाँ इस राजा से सारी उम्र जमीने जीती, पर गया तो इसके हाथ खाली थे. हर इंसान की तरह सिकंदर भी खाली हाथ ही गया, पर अपने जाने का कारण अपनी धडकनों के साथ ले गया.

 

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

18 Responses

  1. Ankur says:

    Thanks to give valuable information

  2. Shehbaz says:

    Very good

  3. Pratik says:

    Good but not satisfactory

  4. Dharmendar says:

    Ashoka Samrat ne Mara Tha Sikanddar koi Bimari Nhi tha ye jhooth

    The Great Ashoka Chakravarti Samrat Ne Mara Tha

  5. RAAZ says:

    दुनिया मे कोई ऐसा योध्दा नही हुआ जिसने सिकन्दर रोमी के आगे टिकने की हिमाकत की हो पुरी दुनिया जितने के बाद दुनिया को ये पैगाम दे गया के मरने के बाद कुछ साथ नही जाएगा सिवाए अपने आमाल के

  6. kamal batham says:

    सिकन्दर पोरस से हार गया था पोरस the great

  7. Anis.fatma says:

    Thanks

  8. Chandan says:

    Bahut bahut thanks

  9. Karan Tyagi says:

    ALEXANDER THE GREAT: SIKANDER naa mar
    a tha, na marega, always alive. Because :
    kyunki woh World Fighter H : vishwavijeta hai

  10. Vikram kumar sahani says:

    Fantasty

  11. Chandan says:

    पोरस ने सिकंदर को हराया था पोरस the great

  12. Raghvendra tiwari says:

    Esduneya mai vahe mahan जो dusaro kai leyai jevet rahai

  13. RAHUL says:

    Oye dharmendar
    Tu chutiye
    Jb knowledge na ho to bolte ni,
    Abe gaandu samrat ashok bahut baad me the,
    Pr porus k saath magadh ki sena jaroor thi.
    Stupid

  14. Saim says:

    Paurash is great

  15. Diwaker says:

    Maine kisi bahut purani kitab me padha tha ki sikandar ki maut Hastmaithun (Musturbation) ki buri Aadat thi jiske karan use koi sexual bimari ho gayi thi. Mujhe us bimari ka nam yaad nahi hai lekin mujhe yakin hai ki wah kotab purani(1806) thi isliye us kitab ki bat jyada sach hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *