हिंदी में Thoughts Quotes Hindi Blog


Thought of the day अनमोल विचार Hindi Thought उद्धरण हिंदी ब्लॉग Thoughts Quotes

Thought Importance विचारो का महत्त्व – किसी विद्वान ने कहा है जो मनुष्य जैसा सोचता है और करता है, वह वैसा ही बन जाता है, यदि आप नकारात्मक सोचते है, तो अपने आत्मविश्वास की कमी जो जायेगी, यदि आप सकारात्मक सोचते है, तो आपमें आत्मविश्वास बढ़ जाएगी. आपका आत्मविश्वास ही आपको सफलता की मंजिल तक पहुचाने में आपकी सहायता करता है. यदि आप सोचते हैं कि हम हार गए तो आप सचमुच हार जायेंगे, तो आप निश्चित ही विजयी होंगे. किसी ने कहाँ है मनुष्य अपने विचारों Thoughts Quotes का उत्पाद है. सफलता की शुरुआत इंसान की इच्छा से होती है. यदि हम तरक्की करना चाहते है, तो हमें अपनी सोच बदलनी होगी. सफलता के मोटी रास्ते में पड़े कंकड़ पत्थर की तरह पड़े नहीं मिलते. सफलता प्राप्त करने के लिए विचारो का समुद्र मंथन करना आवश्यक है. जीवन की लड़ाइयाँ हमेशा वही लोग जीतते है, जिन्हें यकीन है कि कुछ कर सफलता प्राप्त कर सकते है.




देवी का रूप होती है बेटी

शक्ति का स्वरुप होती है बेटी

हर घर में दीपक जलाती है बेटी

पावन गंगा सी बहती है बेटी  – Hindi Thought

 

सूना कर जाती हैं अंगना..

जब जाती हैं सजना के द्वार..

ले जाती हैं प्यार साथ में

खुशियों की सौगात हाथ में

ये होती हैं बेटियां. – हिंदी थॉट

 

सुबह की धुप …गंगा स्नान

पूजा में दो श्लोक

दो दिए  फुल

इस्वर को समर्पित भारत की

उन्नति अखंडता केलिए

जयहिन्द  – Thought of the day 

 

गान अर्पित, प्राण अर्पित,

रक्‍त का कण-कण समर्पित।

चाहता हूँ देश की धरती

तुझे कुछ और भी दूँ।  –  हिंदी थॉट

 

सुप्रभात

तन मन धन प्राण चढ़ाएँगे

इसका मान बढ़ाएँगे

जग का सौभाग्य सितारा है

यह भारत हमारा है

वन्दे मातरम्  – Hindi Thought

 

ये नहीं सोंचना इन बातों पर

आँख मींच ली जायेगी

जो भारत को गाली देगा

जीभ खींच ली जायेगी – Thought of the day 

 

इंसान सिर्फ आग से नही जलते

कुछ तो मुझे खुश देख के भी जल जाते है – Thought 

 

आज हम गर्व से कह सकते हैं

इंडिया हो गया है डिजिटल – थॉट

 

अगर सोच गन्दी हो तो

बेसन की सब्जी खाना भी

बहुत मुश्किल होता है  – अनमोल विचार

 

Digital India एक ऐसी सोच है

जो की समूचे विश्व के सम्पन्न और

उन्नीत पूर्ण देशो के समर्ग

हिंदुस्तान को खड़ा कर देगा   –  हिंदी थॉट

 

तेरी यादों से मोहब्बत क्या कर ली

नींद तो बुरा ही मान गयी  – हिंदी में थॉट

 

मेक इन इंडिया

डिजिटल इंडिया

स्वच्छ भारत

स्मार्ट सिटी

नमामि गंगे

इन सभी प्रोजेक्टो का ही लक्ष्य है “विकास” – Hindi Thought

 

बहोतो को इसमे कुछ अच्छा नही दिखा होगा

पर चिंता मत करना Qकि अपने यहा

जलते हे तेल और बाती

पर लोग कहते हे दीपक जल रहे हे  – Thought in Hindi

 

जीवन में सिर्फ जीना ही मायने नहीं रखता

बल्कि सच्चाई के साथ जीना ज्यादा मायने रखता है  – थॉट इन हिंदी 

 

महानता कभी न गिरने में नहीं बल्कि

हर बार गिर कर उठ जाने में है।  – हिंदी थॉट

 

नदी और घाट वहीं रहते हैं

बस कुंभ खत्म हो जाता है

“यही जीवन है.”  – हिंदी थॉट

 

वह अकेले पुरी  दुनिया में

मुर्दे कि भस्म से नहाते है

ऐसे ही नहीं वो कालो के काल

महाँकाल कहलाते है

सुप्रभात  – Hindi Thought of the day

 

ये फिलिंग्स बड़ी कमीनी चीज है लोग हमे छोड़ जाते हैं

मगर उनके साथ बिताए पल वो हमारे पास छोड़ जाते हैं  – Thought of the day

 

जुल्फों की ये लट अक्सर गिर के

आधे चेहरे को ढक लेती है

यू लगता है तुम्हारे गुलाबी चेहरे को

मेरी नजर से बचाने की

नादान कोशिश किया करती है  – Hindi Thought

 

मै आज भी उन सूखे हुए फूलों को देख

शर्मिंदगी से भर जाता हूँ

जिनके काटें कभी

तुमको चुभे थे

और दर्द मुझे हुआ था   – हिंदी थॉट

 

कभी मुझे भी लगा था मेरा दिल टूट गया लेकिन जब

देखा तो यादें एक भी बिखरी नहीं, गिरी नहीं भूली नहीं

फिर क्या? मै जिंदगी का साथ निभाता चला गया  – हिंदी थॉट

 

बुझ जाएँगी सारी आवाजें

रह जाएगा जागता

सिर्फ लैम्पपोस्ट शहर में

यादें रह जाएँगी, बातें रह जाएँगी

बह जाएगी एक तस्वीर

जागती गीली तेरे आखों से

 

तुम मेघ सी बरसो..

मै धरा सा महकू

 

वो कश्ती वाला क्या गा रहा है.. कोई मुझे भी याद आ रहा है

किस्से पुरानी यादें पुरानी या है मोहब्बत या है जवानी..

दो लफ्जों की

 

जब दर्द नहीं था सीने में

तब खाख मजा था जीने में

अब के शायद हम भी रोंए

सावन के महीने में.

 

शब्दों का चुनाव बहोत ज़रूरी है

आपके मुख से निकला एक भी गलत शब्द

आपको अपनो से दूर कर सकता है

 

न तुम होश में हो न हम होश में है

दोनो की निगाहें आज मयखाना हुई है

 

आज का ज्ञान

दूसरी लड़कियो के बारे में

उतना ही बोलो

जितना अपनी बहन के बारे

में सुन सको

 

“शब्द” मुफ्त में मिलते हैं।

लेकिन उनके चयन पर

“निर्भर” करता है, कि उनकी

“कीमत” “मिलेगी” या “चुकानी” पड़ेगी

 

हाथों में कुदाल लिए खड़े हैं

लोग मरूभूमि में

खोदें उगते पेड़ो की जड़ें

क्यों जिद पर अड़े हैं

धर्म के नाम पर बहक जाते हैं

इतने चिकने घडे हैं

 

इंसान तो इंसान है

क्यों खून पर घमासान है

खून के प्यासे दरिंदे

कहीं के हों

मानव समाज में शैतान है

चलो तलाश करें

इंसान में इंसान ही भगवान है

 

सफलता कभी भी आपके पास चलकर नहीं आती है।

सफल होने के लिये आपके ही उसके पास जाना होगा।

 

दिल लगानें से अच्छा हैं , पौधे लगाऐ ,

वो घाव नहीं ,  कम से कम छाँव तो देगे

 

हिंदू है हम..

माथे का तिलक कभी हटेगा नहीं.

और

जब तक जिंदा हु तब तक

हिंदू  नाम मुँह से मिटेगा नही

 

सोने चांदी का शोख नहीं हे हमें,

शिर पर लगा तिलक ही हमारा घमंड है।।

 

एक दुकान पर बोर्ड लगा हुआ था..

जिस पर लिखे हुए शब्द..

“ग्राहक हमारे भगवान हे

और भगवान को हम उधार दे इतनी हमारी ओकात नही

 

गलत इंसान पर trust

करने के बाद ही

सही इंसान को पहचान ने की समझ

आती है

 

कमाल है ना

आँखे तालाब नहीं

फिर भी, भर

…….आती है….

 

कड़वा सच..

अगर.आपकी वजह से किसी की ज़िन्दगी में

कोई तकलीफ़ आए तो उसकी ज़िन्दगी से ऐसे

निकल जाना चाहिए जैसे कभी उसकी

ज़िन्दगी में आए ही नहीं।

 

जिन्दगी में कभी…कभी..

कुछ ऐसे आस बँधती है

जो टूट जाती है

ज़िंदगी खेल यूँ दिखाती है

 

जो अन्दर से मर जाया करते हैं ना

वही औरो को जीना सिखाते है

 

जितना गहरा अधिक हो कुँआ

उतना मीठा जल मिलता है

जीवन के हर कठिन प्रश्न का

जीवन से ही हल मिलता है

 

ये जरूरी नहीं

कि

हर रिश्ता खून का हो;

कुछ रिश्ते

खून चूसने के लिये भी होते है

 

जो लड़के शहरो मे फटी जीन्स

पहनकर कूल डूड बन स्टाइल मारते है

ऐसे जीन्स पहनने वालो लड़को को गाँव में

“आवारा” घोषित कर दिया जाता है

 

गूगल पर सर्च किया “बकरा कैसे

हलाल करे जवाब में गूगल ने 100 फोटो दिखा

डाली जिसमे लड़की अपने bf के साथ

5star होटल में डिनर कर रही है

 

मानव कितनी भी बनावट करे

अंधेरे में छाया

बुढ़ापे में काया

और

अंत समय मे माया किसी का साथ नहीं देती

 

रिश्तो की डोरी तब कमजोर होती है

जब इंसान

गलतफहमी मे पैदा होने वाले सवालो का जवाब खुद ही बना लेता है

 

रुलाना हर किसी को आता है,

हँसाना भी हर किसी को आता है,

रुला के जो मना ले वो “पापा”  है,

और जो रुला के खुद भी रो पड़े वही “माँ” है

 

बन के अजनबी मिले थे जिन्दगी के सफर में

इन यादों के लम्हों को मिटायेंगे नही

अगर याद रखना फितरत है आपकी

तो वादा है हम भी आपको कभी भुलायेंगे नही

 

मैंने जिन्दगी सेपूछा

सबको इतना दर्द क्यों देतीहो

जिन्दगी ने हंसकरजवाबदिया

मैं तो सबको ख़ुशीही देतीहुँ

पर एक की ख़ुशी दुसरे का दर्द बन जाती है

 

जीवन को जो गति दे और

गति को सही दिशा दे वही धर्म है

 

व्यर्थ है (Thoughts Quotes)

गुण नहीं, तो रूप व्यर्थ है.

नम्रता नहीं तो विद्या व्यर्थ है.

उपयोग नहीं, तो धन व्यर्थ है.

साहस नहीं, तो हथियार व्यर्थ है.

भूख नहीं तो भोजन व्यर्थ है.

होश नहीं तो जोश व्यर्थ है.

परोपकार नहीं तो जीवन व्यर्थ है.

—————————————————————————————————————————————–

समय ही शाश्वत जीवन है (Thoughts Quotes)

समय ही यंत्र है,

समय की तन्त्र है

समय से काम करना

सफलता का मन्त्र है

अगर डांट से बचना है,

आगे आगे बढ़ना है

बातो में न समय गवाओ

झटपट पढने में लग जाओ

समय एक पहिया है

जो वापस न आता है

जिसने यह न जाना

उसे पीछे तो पछताना है

मन का उल्लास समय है

आशा का सन्देश समय है

आस्था व विश्वास समय है

समय ही शश्वत जीवन है

—————————————————————————————————————————————–

शुद्ध क्या क्या है ? (Thoughts Quotes)

जो ईमानदारी सत्य तथा परिश्रम युक्त कमाई का हो, वह पैसा शुद्ध है.

जिसमे सम्मान, सत्य तथा हित भरा हो, वह बर्ताव शुद्ध है.

जिसमे निज सुख वासना का त्याग एवं प्रेमास्पद को सुखी बनाने की एकांत इच्छा और क्रिया सहज हो, वह प्रेम शुद्ध है.

जिस सेवा के बदले में निष्काम  सेवा करने की ही वृत्ति उत्तरोत्तर बढती हो, वह सेवा शुद्ध है.

जिस व्यापार में हिंसा, पर अहित चारी आदि न होकर केवल आजीविका आधरित सत्यता हो, वह व्यापार शुद्ध है.

जिसमे घबराहट पैदा करने वाले शब्द न हों, जो सत्य हो, मधुर हो एवं हितकर हो, वह वाणी शुद्ध है.

जिसमे अहिंसा, सेवा गुरुजनों का पूजन मान, ब्रह्मचर्य निरभिमानता युक्त विनय हो तथा जो शुद्ध खान पान से पोषित तथा भावना परायण हो, वह शरीर शुद्ध है.

जिसमे प्रशन्नता, निर्मलता, ब्या, सतत इस्वर चिंतन और शुद्ध भाव विचार भरे हो और जो कभी व्यर्थ अनर्थ की बात न सोचता हो, वह सब शुद्ध है,

जिसमे मघ, मांस, अंडे, तामसी वस्तु, जूठन आदि न हो और जो खिलाने वाले को सुखी बनाकर किया जाता हो तथा जो चोरी की कमाई का न हो, वह भोजन शुद्ध है.

जिसमे मन में सेवा भाव, त्याग भाव, सादगी, देवी सम्पदा के गुण आदि उत्पन्न होते हों, वह सत्संग तथा वह स्वाध्याय शुद्ध है.

—————————————————————————————————————————————–

दुखी होने के दस गुण  Thoughts Quotes

बिना मांगे सलाह देना

बिना कारण झूठ बोलना

उधार खरीदना उधार बेचना

किसी का विश्वास न करना

हमेशा स्वयं के लिए ही सोचना

लेन देन का हिसाब न रखना

भूतकाल के सुख को याद करना

सेरी से सोना व देरी से उठाना

स्वयं की ही बात को सत्य बताना

कोई भी काम समय पर न करना

—————————————————————————————————————————————–

सुखी होने के दस गुण Thoughts Quotes

व्यावहारिक बनो

पहले सोचो फिर बोलो.

पहले लिखो बाद में दो

काम में सदेव व्यस्त रहो

सबको सम्मान से बुलाओ

अपनी गलती स्वीकार करो

नगद खरीदना, नगद बेचना

सबकी राय लेकर निर्णय लेना

कभी कभी न बोलना भी सीखो

जरुरत न हो उसकी खरीदी न करो

—————————————————————————————————————————————–

आचार्य जी उसे सिखाना Thoughts Quotes 

आचार्य जी

मेरे बच्चे को पढ़ाना

कि संसार में दुष्ट होते है, तो आदर्श नायक भी जीवन में शत्रु है, तो मित्र भी है.

उसे बताना कि श्रम से मिला एक रुपया

बिना श्रम मिले पाचँ रुपए से अधिक मूल्यवान है.

उसे सिखाना कि ईर्ष्या से दूर कैसे रहा जाता है.

उसे पुस्तको के आश्चर्यलोक का ज्ञान अवश्य कराना

किन्तु उसे इतना समय भी देना कि वह नील आकाश में विचरण करते

पक्षी समूह के शाश्वत सत्य को जान सके,

हरे भरे पर्वतों की गोद में खिले फूलो को देख सके.

वह जान सके की पाठशाला में अनुत्तीर्ण होना अधिक सम्मान जनक है,

अपेक्षाकृत किसी को धोखा देने के.

मेरे पुत्र को ऐसा मनोबल देना कि दह भीड़ का अनुसरण न करे.

उसे सिखाना कि जब सभी एक स्वर में गाते हों,

तब वह उन्हें धेर्य से सुने किन्तु वह जो कुछ सुने उसे सत्य की छलनी में छान ले.

वह शोर करने वाली भीड़ पर कान न दे

और यदि वह समझे कि वह सही है.

तो उस पर दृढ़ रहे और लड़े.

उसे अपने विचारों में दृढ़ आस्था रखन सिखाना

चाहे उसे सभी यह कहें कि यह विचार गलत है, तब भी

उसे सीखना सज्जन के साथ सज्जन रहना है कि और कठोर के साथ कठोर.

उसे सिखाना कि दुःख में कैसे हँसा जाता है.

उसे समझाना कि आसुओं के कोई शर्म की बात नहीं होती है.

और उसे सिखाना कि अधिक मधुभाषियो से सावधान कैसे रहा जाता है.

उसके साथ सुकोमल व्यवहार करना, पर अधिक दुलारना भी मत,

क्योकि अग्नि परीक्षा ही इस्पात को सुन्दर बनाती है.

अधीर होने का साहस भी उसमे उत्पन्न करना और बहादुर होने का धेर्य भी.

उसे सीखना कि वह सदेव अपने आप में उदात्त आस्था रखे.

क्यों कि तभी वह मनुष्य जाती में उदात्त आस्था रख पायेगा.

—————————————————————————————————————————————–

शिष्य धर्म Thoughts Quotes

एक शिष्य के लिए समय मूल्य नहीं रखता, उसके लिए तो महत्व इस बात का है कि गुरु क्या आज्ञां उसे देते है और वह कैसे उस आज्ञा का पालन करता है. जो गुरु कहे, वह करे तो वह शिष्य है.

एक शिष्य को चाहिए कि वह अपने ह्रदय को, मन को इतना शुद्ध और दिव्य बना दे, जिससे गुरु उसमें स्थापित हो सके. इतना चेतन्य बना दे कि बाहर की दूषित हवाएँ उस पर असर नहीं कर पाये, उस पर जीवन के विकारों का कोई प्रभाव न हो.

आलस्य, द्वेष, क्रोध, असत्य भाषण ये शिष्य को समाप्त कर देते है. इनसे बचना और इन पर विजय प्राप्त करना हर शिष्य का धर्म है.

दिनभर गुरु के कार्य में जुटे रहना, गुरु का चिंतन करते रहना और अगर कोई गलती हो गई है तो गुरु के सामने प्रायश्चित कर देना, यह शिष्य के जीवन की उच्चता है.

जो फलदार वृक्ष होता है, फलदार वृक्ष होता है, वह सबसे पहले झुकता है. जो सुखी हुई लकड़ी होती है, वह ठूंठ की तरह कड़ी रहती है. शिष्य का गुरु के आगे झुकना यह प्रमाण है कि उसमें श्रध्दा व समर्पण है.

केवल गुरदेव गुरुदेव कहने से व्यक्ति शिष्य नहीं हो जाता, वह शिष्य होता है, पूर्ण समर्पण द्वारा, गुरु सेवा द्वारा, गुरु सेवा के माध्यम से ही शिष्य का नाम गुरु के ह्रदय पटल पर अंकित हो जाता है.

—————————————————————————————————————————————–

आत्म विश्वास Thoughts Quotes

एक युवा में अपने लक्ष्य और आत्म विश्वास होना जरुरी है. संदेहशील व्यक्ति व्यावहारिक दृष्टी से भी सफल नहीं हो सकता. वह नीरस और कटा हुआ जीवन जीता है. उसे न अपने अस्तित्व, कर्तव्य और व्यक्तित्व पर भरोसा होता है. और न दूसरों पर संदेह मानसिक तनाव उत्पन्न करता है.

मन सदा भय और आशंका से भरा रहता है. दबा हुआ भय और आशंका कभी भी विस्फोटक स्थिति पैदा कर सकते है जीवन के लिए जितना श्वास का महत्व है. उतना ही अपने में विश्वास पैदा करने का है. व्यक्ति को दुसरे के सुख और समृधि अधिक दिखती है और अपनी कम. अपनी उपलब्धि में संतुष्ट रहने वाला व्यक्ति पराई उपलब्धि से जलता रहता है. या उस पर हस्तक्षेप करता रहता है

इससे अनेक उलझने सामने आती है और दूसरी की प्रगति के प्रति असहिष्णुता मानवीय दुर्बलता है. पारिवारिक, जातीय, सामाजिक, धार्मिक और भाषाई विवादों की जड़ यह असहिष्णुता ही है. वस्तुत सुख शांति और आनंद को पाने के लिए कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है, वह स्वयम के भीतर है.

एक कुशल नाविक से किसी ने पूछा नौका यात्रा करते हुए यदि तूफ़ान आ जाये तो तुम क्या करोगे? मैं लंगर दाल दूँगा नाविक ने आत्मविश्वास से कहाँ. “यदि फिर तूफ़ान आ जाये तो क्या करोगे?” “मैं फिर लंगर दाल दूंगा” भले आदमी, आखिर तुम्हारे पास इतने लंगर आयेंगे कहाँ से?

महाशय जहाँ से आपके तूफ़ान आयेंगे, उधर से लंगर भी आ जायेंगे. सचमुच विश्वास एक ऐसा लंगर है, जो हर परिस्थिति में हमारे जीवन रूपी जहाज को संतुलित और नियंत्रित रख सकता है. उसका प्रयोग हम चाहे कितनी बार करें, वह समाप्त नहीं होगा.

—————————————————————————————————————————————–

समय की कीमत Thoughts Quotes

अगर आप एक वर्ष की कीमत जानना चाहते है तो एक अनुतीर्ण विद्यार्थी से पूछिए.

अगर आप एक महीने की कीमत जानना चाहते है तो उस माँ से पूछिए, जिसने समय के एक महीने पहले अपने बच्चे को जन्म दिया.

अगर आप एक दिन की कीमत जानना चाहते है. तो उस सम्पादक से पूछिए, जिसका समाचार पत्र एक दिन पुराना होकर छपता है.

अगर आप एक घंटे की कीमत जानना तो उस व्यक्ति से पूछिए जो एक घंटे से अपने मित्र का इन्तजार कर रहा है.

अगर आप एक मिनिट की कीमत जानना चाहते है तो उस व्यक्ति से पूछिए, जिसकी ट्रेन एक मिनिट पहले छुट गई.

अगर आप एक सेकंड की कीमत जानना चाहते है, तो उस ड्राइवर से पूछिए जिसकी क्षणिक गलती से दुर्घंटना हो गई.

अगर आप एक मिली सेकंड की कीमत जानना चाहते है तो पी.टी उषा से पूछिये, जिसने एक क्षण के सौवे हिस्से के कारण ओलम्पिक में पदक खो दिया.

—————————————————————————————————————————————–

हम दुखी क्यों? Thoughts Quotes

आई बस्टीन से किसी ने पूछा – संसार में इतना दुःख और कलह क्यों जबकि विज्ञान ने एक से बढ़कर एक सुख साधन उत्पन्न किये है?

उन्होंने उत्तर दिया – कमी बस ही रह गई है कि अच्छे मनुष्य बनाने की योजना नहीं बनी. देश, सम्प्रदाय के पक्षधर सभी दिखते है. पर ऐसे लोग नहीं अच्छे इंसान बनाने की योजना बनाएं.
—————————————————————————————————————————————–

दीर्घ एवं स्वस्थ जीवन के नियम Thoughts Quotes

प्राय: ब्रह्म मुहूर्त में उठें. सुबह-शाम खुली हवा में टहले, दौड़े.

योगासन, प्राणायाम, जप, ध्यान, संयम, सदाचार आदि का नियम ले.

दिन में कम से कम एक बार देव मानव हास्य प्रयोग करे.

मोटे व सूती वस्त्र पहनें, कृत्रिम नहीं.

संयम से रहे ऋतुचर्या के अनुसार आहार विहार करे.

चाय कॉफ़ी, शराब कबाब, धूम्रपान, पान मसाला आदि का सेवन न करे.

पेशाब करने के तुरंत बाद पानी न पीयें न ही पानी पीने के तुरंत बाद पेशाब जायें. इससे हानि होती है. मल मूत्र का वेग नहीं रोके.

सप्ताह में कम से कम एक दिन रोज के सामान्य कार्यो से मुक्त हो जाएँ.

स्वास्थ्य मंत्र ॐ का रोज १०८ बार (एक माला) जाप करे.

संत के सत्संग सानिध्य में स्वयं जाए और दुसरो को भी ले जायें.

—————————————————————————————————————————————–

आत्म विश्वास Thoughts Quotes

एक बार लार्ड माउन्ट बेटन से एक परीक्षक ने अनेक प्रश्न किये. अंत में एक प्रश्न किया “ मानलो तुम जहाज में हो और सहसा तूफ़ान आ जाये. ऐसे स्थिति में तुम क्या करोगे ?”

“हम लंगर दाल देंगे.” माउंट बेटन ने जवाब दिया.

“दूसरी बात तूफ़ान आये तो?” परीक्षक ने पुन: प्रश्न किया.

“दूसरा लंगर दाल देंगे” माउन्ट बेटन ने सहज रूप में जवाब दिया.

 

“तीसरी बार तूफान आये तो?” परीक्षक ने एक और प्रश्न किया.

“तीसरा लंगर डाल देंगे” बेटन ने कुछ विचार कर उत्तर दिया.

“आप इतने लंगर लायेंगे कहाँ से” परीक्षक ने जिज्ञासापूर्वक ढंग से प्रश्न किया.

 

“वहीं से, जहाँ से आप इतने तूफान लाएँगे. “बेटन का सटीक जवाब था. यही उत्साहित एवं आत्विश्वास व्यक्ति था, एडमिरल जनरल लार्ड माउंट बेटन. भविष्य में यही व्यक्ति स्वतंत्र भारत का प्रथम वाइसराय बना. सत्य है, आत्मविश्वास सफलता का महान सूत्र है.”

—————————————————————————————————————————————–

इंसानियत के पीछे अंग्रेज Thoughts Quotes

एक बार नेहरूजी से एक अंग्रेज पत्रकार से पूछा “अंग्रेज शिक्षा विज्ञान और तकनीक में भारतीयों से बहुत आगे है तो भी आप उन्हें अपने देश से निकालना चाहते है?”

नेहरु जी ने कहा – क्योकि वे नेतिकता और इंसानियत में बहुत पीछे है.

पत्रकार नेहरु जी का जवाब सुनकर चुप रह गए.

—————————————————————————————————————————————–

विद्यार्थी की सरगम Thoughts Quotes

सा – साधना करने से बालक श्रेष्ठतम बन जाता है.

रे – रेती में जो नाव चलावे, परिवर्तन वह कर पता है.

– गर्व है जिसको परम्परा का, साहस उसमें आता है.

– मननशील हो जो विद्यार्थी, मंथन वह कर पाता है.

– परीक्षा से जो नहीं डरता, सुपरिणाम वह लाता है.

– धर्म जो सच्चा समझ सके, वह सबके संग रह पाता है.

नि – निश्चय जिसका पक्का हो, वह निश्चय मंजिल पाता है.

सा – साक्षर है, वह सरगम को, जो हरदम दिल से गाता है.

—————————————————————————————————————————————–

भारत माता का वीर सपूत Thoughts Quotes

वह बालक तेजी से भाग रहा था. वहाँ एक कुत्ता उसका पीछा कर रहा था. वहाँ आँगन में खड़ीं माँ उसे देख रही थी. बालक चिल्लाया बचाओ-बचाओ. माँ ने कहा पलट कर सामना करो. बालक ने पलटकर कुत्ते को घूरकर देखना प्रारभ किया. कुत्ता ठिठका और दुम दबाकर भाग गया. बालक ने प्रतिज्ञा की मैं कभी भागूँगा नहीं., मैं हमेशा मुकाबला करूँगा.

एक दिन गॉव के पास नदी में तैरते समय वह भवंर में फँस गया. उससे मुक्त और पानी की सतह पर बने रहने के लिए वह जोर-जोर से हाथ पाँव मारने लगा. साथी लडको ने यहाँ देखा तो दौड़ कर गाँव में गए और कुछ आदमियों को साथ लाये. उनके साथ में उनकी माँ भी थी.

गॉव वाले मदद करने पानी में उतरे ही थे की लड़के ने चिल्लाकर कहा नहीं, नहीं आप लोग वहीँ रहिये. मैं अपने को खुद बचा लूँगा और सचमुच उसने अपने हाथ मारकर अपने आपको भँवर से बचा लिया. वह निर्भीक बालक था – जतीन मुखर्जी एक बार उसने बाघ से जूझकर उसे मार डाला और बाघ जतिन का नाम पाया.

अंत में बालेश्वर उड़ीसा के समुद्र तट पर पुलिस के साथ बहादुरी से लड़ते हुए १० सितम्बर १९१५ को अस्पताल में उसकी मृत्यु हो गई. आज भी उसे भारत माता के एक अत्यंत बहादुर बेटे के रूप में याद किया जाता है.

—————————————————————————————————————————————–

Thoughts Quotes – लन्दन की एक दूकान में एक सुन्दर, सुशील और प्रतिभाशाली युवक हिसाब लिखने का काम करता था. लेकिन इस काम में उसकी कोई विशेष रूचि नहीं थी. अत: एक सप्ताह का अवकाश लेकर वह एक दिन अपनी माँ से मिलने गॉव चला गया. वहाँ से उसने कुछ दिनों के बाद अपने एक पूर्व शिक्षक को बहुत ही निराशपूर्ण पत्र लिखा – “दूकान पर काम करने की नोकरी से मेरा माँ एकदम ऊब चूका है,” यदि फिर से वहाँ काम करने जाना पड़ा, तो मैं आत्महत्या कर बैठूँगा.

यह पत्र पढ़कर शिक्षक महोदय ने पत्रोपर में लिखा “तुम्हारा पत्र पढ़कर मैं अत्यंत दुखी हूँ” मैं तुम्हारे छात्र जीवन से बड़ा प्रभावित रहा हूँ. तुममे एक महान व्यक्ति बनने के समस्त गुण विद्यमान है. तुम प्रतिभाशाली तो हो ही. देखिये, तुम्हे इस संसार में कई वर्षो तक जीवित रहकर बहुत अच्छे काम करने है.

इसलिए आत्महत्या करने की बात अब तुम अपने मन से बिलकुल निकाल दो. शिक्षक का यह प्रेरणाप्रद पत्र उस युवक के लिए वरदान सिद्ध हुआ. आगे चलकर वह युवक विश्व का एक महान लेखक बना. उसने अस्सी से अधिक मौलिक ग्रन्थ लिखे. वह सुविख्यात लेखक था – एच.जी.वेल्स.

—————————————————————————————————————————————–

नीलाम हो गए Thoughts Quotes

हादसे आजकल सभी आम हो गए,

मुखोटे लागाकर रावण सभी राम हो गए

आबरू या जिन्दगी में, चाहे जो खरीद,

तय देखिये हर चीज के दाम को गए.

सत्यता की बात आज बोलने वाले

हालत यूँ बदलने की बदनाम हो गए.

घर बटा, जमीन बटी, हुई बात पुरानी,

अब तो टुकड़े-टुकड़े आसमान हो गए

—————————————————————————————————————————————–

हाथ में तक़दीर सोपी थी कुछ सोचकर

क्या करे, सच के शिख्रर नीलाम हो गए,

रातभर दीपक लड़ा अंधेरों से दोस्तों ,

उजाले सभी सेठ जी के नाम हो गए.

—————————————————————————————————————————————–

प्रेरक प्रसंग Thoughts Quotes

यह घटना १९०६ की है. उन दिनों प्रेजिडेंट कोलेज के प्रिंसिपल निहायत सख्त स्वाभाव के अंग्रेज थे. उस जमाने के प्रेजिडेंट कालेज के वाही छात्र एम.ए की परीक्षा दे सकते थे, जो कालेज की पूर्व परीक्षा पास कर चुके हों.

प्रिंसिपल साहब पूर्व परीक्षा के परिणामो की घोषणा कर रहे थे. घोषणा समाप्त होने पर एक छात्र खड़ा हुआ और बोला सर, आपने सारे परिणाम सुना दिए, पर मेरा नाम नहीं लिया. प्रिंसिपल बोले तुम्हारा नाम इस सूचि में नहीं है,

तुम पास नहीं हुए. विद्यार्थी आत्मविश्वास से बोला “ऐसा नहीं हो सकता जरुर कुछ गड़बड़ है, कृपया पता कीजिये.” उसकी बात पर प्रिंसिपल साहब चिड गए. उन्होंने उस अशिष्टता पर १० रुपए जुर्माना कर दिया.

विद्यार्थी फिर भी अपनी बात पर अड़ा रहा की वह परीक्षा में फ़ैल नहीं हो सकता. प्रिंसिपल साहब अपना आपा खो बैठे और कड़ककर बोले “अब तो तुम्हे ५० रु जुर्माना भरना पड़ेगा अगर ” एक शब्द और बोले तो कालेज से निकल देंगे.

तभी कालेज का हेड क्लर्क दौड़ता हुआ आया और बोला “सर, बड़ी भूल हो गई. इस विद्यार्थी का नाम गलती से सूची से नहीं लिखा गया. यह क्लास में फर्स्ट आया है.” हेड क्लर्क की बात सुनकर प्रिंसिपल साहब का सर शर्म से झुक गया. अपने व्यवहार पर उस विद्यार्थी से क्षमा मांगी और उसके आत्मविश्वास की सराहना करने लगे.

वह आत्मविश्वासी छात्र और कोई नहीं, बल्कि भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद थे.

—————————————————————————————————————————————–

पुरुषार्थ Thoughts Quotes – Hindi Thought

एक सेठ के गोदाम में आग लगी और आग ने उसकी दूकान को अपनी लपटों में ले लिया. सहानुभूति दिखाने वालों ने कहा “सेठजी” आपके ऊपर तो बड़ी मुसीबत आ गई, आपके सामने ही आपकी दूकान और गौदाम जल रहे है.

सेठ जी बोले किस बात की मुसीबत लोग बोले अरे सेठजी आपका तो सर्वनाश हो गया. सेठजी बोले आप लोग पागल हो गए हो क्या? सर्व जिसने बनाया, वह बुध्दि और पुरुषार्थ मेरे पास है और जो बचा है. उसमें से सर्व पुन: उभर आएगा.

मेरा होंसला मेरे पास है, मेरी बुध्दि मेरे पास है, और मेरा सच्चिदानंद परमानन्द मेरे पास है, फिर क्यों दुखी होते हो? जो नाशवान था. वही तो नष्ट हुआ और वह पुन: आ जाएगा, चिंतित क्यों होते है? सच हो तो है, जो पुरुषार्थी है, उत्साही है, उन्हें दुनिया की कोई भी परिस्थिति दुखी नहीं कर सकती.

—————————————————————————————————————————————–

सबसे बड़ी बाते Thoughts Quotes – Hindi Thought

सबसे उत्तम दिन – आज

सबसे उपयुक्त समय  – अभी

सबसे बड़ी आवश्यकता – सामान्य ज्ञान

सबसे बड़ा विश्वसनीय मित्र – अपना मित्र

सबसे बड़ा पाप – भय

सबसे बड़ी भूल  – समय का भय

सबसे बड़ी बाधा – अधिक बोलना

सबसे बुरी भावना – ईर्ष्या

सबसे बड़ा भाग्यशाली – कार्यरत

—————————————————————————————————————————————–

संसार की कोई भी वस्तु न इतनी उपयोगी है, न इतनी दुर्बल और न ही इतनी अमूल्य है, जितना की मानव जीवन अत: इसे शुभ कार्यो में लगाना चाहिए. – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

विद्या एक ऐसा समुद्र है, जिसका किनारा नहीं

विद्या एक ऐसा तालाब है, जो सूखता नहीं

विद्या मनुष्य की रक्षक व मार्गदर्शक है.

विद्या का वृक्ष सदेव आशा के फूल और धेर्य का फला देता है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

बीमारी में काम की अधिकता जहर है.

निरोगी व्यक्तियों के लिए आराम की अधिकता जहर है.

आडम्बर युक्त धर्म जहर है.

सदाचार मुक्त कर्म जहर है.

मंदिर में वाचालता जहर है.

कटघरे में मौन जहर है.

मातमी माहोल में हँसना जहर है.

दुसरो को खुश देखकर दुखी होना जहर है.

स्वार्थी व्यक्तियों से दोस्ती जहर है.

ज्ञानी व्यक्तियों से दूरी जहर है.

मूर्खो की हिमायत जहर है.

प्रतिभावानाओ के प्रति ईर्ष्या जहर है.

परीक्षा में नक़ल जहर है.

पढाई में अयोग्य का दखल जहर है.

आक्सीजन के बिना हवा जहर है.

डॉक्टर के बिना दवा जहर है.

असत्य अपनत्व के लिए जहर है.

संत के लिए आय जहर है.

निर्धन के लिए अपव्यय जहर है.

छल से मिली सफलता जहर है.

बल से मिला अधिकार जहर है — Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतना करुणावान बनाओं कि प्राणी मात्र के प्रति मंगल कामना कर सकूँ और प्रेम का अमृत बाँट पाऊं – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी सरलता देना कि क्षमादान कर सकूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी विनम्रता देना कि अपने से ऊपर उठे हुए लोगों के चरणों में मस्तक झुका पाऊं – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे ऐसी सन्मति देना कि बिना विचारे कभी न बोलूँ और जो भी बोलूँ सोच समझ कर सत्य और प्रिय बोलूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी सुझबुझ देना की किसी की खुशहाली में आग लगाने की बात दिन व् दिमाग में आये ही नहीं – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी गंभीरता देना कि दूसरों के विचारों का भी खुले मन से सम्मान करना सिख लूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी उच्च उज्जवल सोच देना कि उपकार करने वाले पर भी उपकार कर सकूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतना विनय देना की अहंकार पर विजय प्राप्त कर सकूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी सजगता देना की जीवन के किसी मोड़ पर जब पीड़ा के बादल बरस रहे हों, तब भी मैं अपनी प्रसन्नता को बनाये रखूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतना आत्म बल देना कि दूसरो की टीका टिप्पणी की चोट के समय भी मैं अपने आप को नियंत्रण में रख सकूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी विशालता देना की अपनी कमियों को मैं बिना किसी झिझक और हिचक के स्वीकार कर सकूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुझे इतनी उदारता देना कि प्रकृति से ली गई चीजों को वापस कर सकूँ – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

उत्साह में वे सभी गुण है, जो आपको सफलता की राहों पर ले चलते है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

योजना बनाकर कर्तव्य पथ पर चलना ही

आत्मविश्वास व्यक्ति की सही पहचान है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

हर रूकावट प्रगति में सहायक होती है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

बहाने बनाकर हम किसी और को नहीं, बल्कि स्वयं को नुकसान पहुँचाते है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

प्राथमिकता तय करने में होंसला रखिये – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

ध्यान से सुनकर सीखिए,

सोच समझकर समझिये – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

समस्या में ही समाधान छिपा हुआ है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

सकारात्मक नजरिया फैदेमंद होता है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

जिसे पुस्तके पढने का शोक है,

वह सब जगह सुखी रह सकता है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

क्या आपने दया दिखाई थी? उसे अनदेखा कीजिये – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

वह व्यक्ति वास्तव में बुध्दिमान है,

जो क्रोध में गलत बात मुँह से नहीं निकलता – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

जैसे नदी बह जाती है

और लौटकर नहीं आती,

उसी तरह रात और दिन

मनुष्य की आयु लेकर

चले जाते है और फिर नहीं आते – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

मुँह से कोई कितनी ही नेक बातें करे,

मगर चुगलखोर जबान उसके

ह्रदय की नीचता को प्रकट कर देती है – Hindi Thought

—————————————————————————————————————————————–

दीपक होता है शिक्षक, बाती उसके विद्यार्थी,
घी विद्यार्थी का का अध्ययन, लो उसका जीवन.

बाती बिन दीपक सुन, दीपक बिन बाती,

अध्ययन रूपी घी न होतो लौं कहाँ से आती.

शिक्षक वह महामंत्र है, जीवन का बड़ा मन्त्र है,

मन्त्र सदा ये रटा करो, आदर गुरु का किया करो.

ब्रम्हा का ये रुप्प है, गुरु तो देव स्वरुप है,

गुरु तो सच्चा ज्ञान है, गुरु प्रभु समान है.

जो विद्यार्थी गुरु से जुड़े, जीवन में

सफलता पाए आगे ही सदा बढ़ते जाएँ – Hindi Thought

 

Thoughts Quotes Hindi Blog, Hindi Thought, Thought of the day, Quotes in Hindi, Thought, Quotes, Search on Google Thought, Bing Thought, Facebook Thought, Twitter Thought अनमोल विचार, सुविचार, थॉट ऑफ़ द डे, गूगल हिंदी थॉट, बिंग अनमोल विचार, सर्च इंजन थॉट, थॉट का सर्च इंजन, Beautiful Thought, Positive Thought, Google Quotes, Quotes in Hindi

Thoughts Quotes Hindi Blog, Hindi Thought, Thought of the day, Quotes in Hindi, Thought, Quotes, Search on Google Thought, Bing Thought, Facebook Thought, Twitter Thought अनमोल विचार, सुविचार, थॉट ऑफ़ द डे, गूगल हिंदी थॉट, बिंग अनमोल विचार, सर्च इंजन थॉट, थॉट का सर्च इंजन, Beautiful Thought, Positive Thought, Google Quotes, Quotes in Hindi

 

सम्बंधित पोस्ट

Top 9 Hindi Thoughts

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *