Author: indiahindiblog

Munshi premchand story 0

Munshi premchand story

विश्वकवि रविंद्रनाथ टैगोर के अनुसार “हिन्दुस्तान महापुरुषों का सागर है l ” ऐसे ही महापुरुषों में महान साहित्यकार के रूप में एक नाम आता है – मुंशी प्रेमचन्द्र का। आप हिंदी जगत् में एक महान कहानीकार और उपन्यास सम्राट के रूप में विख्यात हैं। प्रेमचंद्रजी के हिंदी-जगत में पदार्पण के पूर्व हिंदी के प्रारंभिक उपन्यासकार या तो तिलस्मी...

Interesting fact - रोचक तथ्य 0

Interesting fact – रोचक तथ्य

रोचक तथ्य Interesting fact नए नए रोचक तथ्य Interesting fact भारत में प्रतिवर्ष ४ लाख टन स्टेनलेस स्टील का निर्यात विदेशों को किया जाता है, जिसकी कीमत करीब ४ हजार करोड़ रुपए है। भारत में लगभग १० लाख ७९ हजार स्वयंसेवी संस्थाए हैं जर्मनी का ड्रेसडेन जूलॉजी म्यूजियम २७५ वर्ष पुराना है। इसे दुनिया का सबसे पुराना म्यूजियम...

human heart attack problems 0

Heart Attack Problem Solution Treatment

Heart Attack (हृदय रोग के कारण) विश्व में प्रतिवर्ष दो करोड़ व्यक्ति ह्रदय-रोग से मरते है। यह ह्रदय-रोग क्या है ? सीधे अर्थ में ह्रदय के किसी एक या एक से अधिक भीतरी या बाहरी भाग में वित्रातीय द्रव का रुकना या एकत्र होना ह्रदय रोग कहलाता है। इन वित्रातीय द्रव्यों का ह्रदय पर बड़ा प्रभाव पड़ता है,...

Uttarakhand Pauri Garhwal 0

Uttarakhand Pauri Garhwal

पौडी गढ़वाल उत्तराखंड का एक जिल्ला, जिसका मुख्यालय, पौडी मे है। अल्मोड़ा, हरिद्वार, टेहरी, नैनीताल, चमोली, रुद्र पर्याग, हरिद्वार, देहरादून जिलो से घिरा यह जिल्ला उत्तर परदेश के बिज्नोर से भी इस जिल्ले की सीमायें जुड़ी हुई हैं। पौडी गढ़वाल, गढ़वाल राज्य का एक अंश था जब श्रीनगर राज्य की राजधानी थी, परन्तु बाद मे पुरा गढ़वाल ब्रिटिश...

Good and bad deeds 0

Selfless meaning, Good and bad deeds

What is Selfless deeds ?  (निष्काम कर्म क्या है ?) Good and bad deeds  (अच्छे और बुरे कर्म ) जिस प्रकार विनम्रता न हो, तो विध्या व्यर्थ है , उसी प्रकार कर्म न हो, तो जीवन व्यर्थ है. कर्म जीवन की आधारशिला है यह सफलता या असफलता का मूल है. यदि हम काम नहीं करते और केवल भाग्य के...

The Guru Puja Story of Shivaji 0

The Guru Puja Story of Shivaji

एक बार स्वामी रामदास के पेट में दर्द हो रहा था।  उस दर्द की असहनीय अवस्था में स्वामी जी बार बार कराह उठते थे। उनके चारो तरफ उनके प्रिय शिष्य बैठे हुए थे।  अँधेरी रात थी। मूसलाधार बारिश  हो रही थी। बादल गरज रहे थे।  बिजली चमक रही थी। गुरूजी के पास बैठे एक बालक से जब गुरूजी...

Kati Patang Story कटी पतंग कहाँनी 0

Kati Patang Story कटी पतंग कहाँनी

  Kati Patang Story कटी पतंग – Kati patang story in Hindi भारत देश में पतंग का त्यौहार हर साल आता है और इस त्यौहार में आप पतंग के इस खेल को किस तरह से कहानी का रूप दिया गया है. संक्राति का पर्व था। प्रातः वेला थी। भगवान भास्कर अपनी समस्त रश्मियाँ पृथ्वी – मण्डल पर बिखरे...