Brahmin Empire Mahomendan State

Brahmin Empire Mahomendan State History Information in Hindi

जानिये ब्राह्मण साम्राज्य और यवन राज्य ( Brahmin Empire Mahomendan State ) के बारे में प्राचीन बाते जिसमे

पुष्यमित्र शुंग, जिसने मगध पर शंगु वंश की नीव डाली, ब्राह्मण जाति का था.

शंगु शासको ने अपनी राजधानी विदिशा में स्थापित की.




 

इंडो यूनानी शासक मिन्नाडर को पुष्यमित्र शंगु ने पराजित किया.

पुष्य मित्र शंगु ने दो बार अश्वमेघ यग्य किया, इनके लिए पतंजली ने अश्वमेघ यज्ञ कराये.

भरहुत स्तूप का निर्माण पुष्यमित्र शंगु ने करवाया.

शंगु वंश का अंतिम शासक देवभूमि था. इसकी हत्या ७३ ई पू में वासुदेव ने कर और मगध की गद्दी पर कण्व वंश की स्थापना की.

कण्व वंश का अंतिम राजा सुशर्मा हुआ.

शिमुक ने ६० ई पू में शुशर्मा की हत्या कर दी और सातवाहन वंश की स्थापना की.

सातवाहन वंश के प्रमुख शासक थे सिमुक, शातकर्ण, गौतमी पुत्र शातकर्ण, वशिश्ठी पुलुमावी तथा यज्ञश्री शातकर्ण.

पश्चिम का स्वामी गौतम पुत्र शातकरनी को कहा जाता है.

शातकरणी ने दो अश्वमेघ तथा एक राजसूय यग्य किया.

सात वाहन शासको के समय के प्रसिद्ध साहित्यकार हाल और गुणाढय थे.

हाल ने गाथा सप्तशतक तथा गुणाढय ने ब्रहत कथा नामक पुस्तको की रचना की.

सातवाहन शासको ने चाँदी, तांबे, सीसा, पोटीन और कासे की मुद्राओ का प्रचलन किया.

ब्रह्मणों को भूमि अनुदान देने की प्रथा का आरम्भ सातवाहन शासको ने ही सर्वप्रथम किया.

सातवाहनो की भाषा प्राकृत और लिपि ब्राह्मी थी.

सातवाहनो का समाज मातृसत्तात्मक था.

सातवाहनो की महत्वपूर्ण स्थापत्य कृतिया है. कार्ल का चेत्य. अजंता और एलोरा की गुफाओं का निर्माण और अमरावती कला का विकास.

Brahmin Empire Mahomendan State Information in Hindi

Brahmin Empire Mahomendan State Information in Hindi

 

भारत के यवन राज्य  (Brahmin Empire Mahomendan State )

भारत पर आक्रमण करने वाले विदेशी आक्रमणकारियों का कर्म है. हिन्दू यूनानी, शक, पह्लव, कुषाण.

सेल्यूकस के द्वारा स्थापित पश्चिमी तथा मध्य एशिया के विशाल साम्राज्य को इसके उत्तराधिकारी एन्टीओकस प्रथम ने अक्षुण्य बनाये रखा.

एन्टीओकस 2 के शासनकाल में विद्रोह के फलस्वरूप उसके अनेक प्रांत स्वतंत्र हो गए.

बैकट्रीया के विद्रोह का नेतृत्व डीयोडोट्स प्रथम ने किया था. बैकट्रीया पर डीयोडोट्स मिनेंडर, यूक्रेटाइड्स, डेमिट्रियस, मिनेंडर, यूक्रेटाइडस, एन्टी आल्कीड्स और हर्मिक्स.

भारत पर सबसे पहले आक्रमण बैक्ट्रिया के शासक डेमिट्रियस ने किया. इसने १९०ई पू में भारत पर आक्रमण कर अफगानिस्तान, पंजाब और सिंध के बहुत बड़े भाग पर अधिकार कर लिए. इसने शाकल को अपनी राजधानी बनायीं. इसे ही हिंद यूनानी या बैक्ट्रियाई यूनानी कहा गया.

हिन्द यूनानी शासको में सबसे अधिक विख्यात मिनांडर १६५-१४५ ई पू हुआ. इसकी राजधानी शाकल (आधुनिक सियालकोट) शिक्षा का प्रमुख केंद्र था.

मिनांडर ने नागसेन-नागार्जुन से बौद्ध धर्म की दीक्षा ली.

मिनांडर के प्रशन और नागसेन द्वारा दिए गए उत्तर एक पुस्तक के रूप में संग्रहित है, जिसका नाम मिलिंदपन्हो अर्थात मिनिल्ड के प्रशन या मिलिन्द प्रशन है.

हिन्द यूनानी भारत के पहले शासक हुए जिनके जारी किये सिक्को के बारे में निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि सिक्के किन राजाओ के है.

भारत में सबसे पहले हिंद यूनानियो ने ही सोने के सिक्के जारी किये.

हिंद यूनानी शासको ने भारत के पश्चिमोत्तर सीमा प्रांत में यूनान की प्राचीन कला चलाई जिसे Hellenistic Art कहते है. भारत में गंधार कला इसका उत्तम उदाहरण है.

 

सम्बंधित पोस्ट

ब्रम्हा मुहूर्त की जानकारी

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

1 Response

  1. jitendra says:

    Sir Minandar ke ka eajasthan se samband btaye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *