Category: Geography Information

पृथ्वी की आंतरिक संरचना 0

पृथ्वी की आंतरिक संरचना Information

पृथ्वी की आंतरिक संरचना पृथ्वी की आंतरिक संरचना के सम्बंध में वैज्ञानिको में मतभेद है. भू गर्भ में पाई जाने वाली परतों की मोटाई, घनत्व, तापमान, भार और वहाँ पाए जाने वाले पदार्थ की प्रकृति पर अभी पूर्ण सहमति नहीं हो पायी है. फिर भी तापमान, दबाव, घनत्व, उल्काओ और भूकम्पीय तरंगों पर आधारित प्रमाणों को एकत्रित करके...

पृथ्वी का प्रकाश चक्र Earth Light Cycle 0

पृथ्वी का प्रकाश चक्र Earth Light Cycle

पृथ्वी का प्रकाश चक्र – In what way is the light cycle of the earth? पृथ्वी का प्रकाश चक्र Circle of Illumination – वैसी काल्पनिक रेखा जो पृथ्वी के प्रकाशित और अप्रकाशित भाग को बाँटती है. पृथ्वी के परिभ्रमण की दिशा पश्चिम से पूर्व है. जिस कक्षा में पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है वह दीर्घवृत्तीय है. अत: तीन...

सौरमंडल के पिंड 1

सौरमंडल के पिंड का संसार Planet Info

सौरमंडल के पिंड अंतराष्ट्रीय खगोलशास्त्रीय संघ International Astronomical Union – IAU की प्राग सम्मेलन 2006 के अनुसार सौरमंडल के पिंड  में मौजूद पिंडो को तीन श्रेणियों में बांटा गया है. परम्परागत ग्रह – बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण, वरुण. बौने ग्रह – प्लूटो, चेरान, सेरस 2003 यूबी 313 लघु सौरमंडल पिंड – धूमकेतु, उपग्रह और अन्य छोटे...

सौरमंडल सोलर सिस्टम 0

सौरमंडल सोलर सिस्टम Galaxy Information

सौरमंडल सोलर सिस्टम सूर्य के चारो और चक्कर लगाने वाले विभिन्न ग्रहों, क्षुद्रग्रहों, धूमकेतुओं, उल्काओं और अन्य आकाशीय पिंडो के समूह को सौरमंडल कहते है. सौरमंडल में सूर्य का प्रभुत्व है, क्योकि सौरमंडल निकाय के द्रव्य का लगभग 99.999 द्रव्य सूर्य के निहित है. सौरमंडल सोलर सिस्टम के समस्त उर्जा का स्त्रोत भी सूर्य ही है. सूर्य –...

Universe Geography Information in Hindi 0

Universe Geography History Information

Universe Geography ब्रह्माण्ड  भूगोल (Universe Geography) भूगोल के नामकरण और इस विषय को प्राथमिक स्तर पर व्यवस्थित स्वरूप प्रदान करने का श्रेय यूनान के निवासियों को जाता है. भूगोल को एक अलग अध्ययनशास्त्र के रूप में प्रसिद्ध यूनानी विद्वान इरैटोस्थनीज  ने स्थापित किया. अतएव इन्हें भूगोल का पिता कहा जाता है. हेकिटयस ने अपनी पुस्तक पेरीडायस में सर्वप्रथम...

जंगल हमें सिखाता है Forest Education 0

जंगल हमें सिखाता है Forest Education

जंगल हमें सिखाता है जानिए जगल हमें क्या सिखाता है प्रस्तावना जंगल हमें सिखाता है के बारे में सबसे बड़ी बात है कि जंगल है तो जीवन है. जंगल में तरह तरह के पक्षी, पशु वृक्ष हमें दिखते है जंगल में जो पेड है, वह हमारी दूषित वायु को लेकर स्वच्छ आक्सीजन प्रदान करते है, जिससे हम जीवित...

वन संरक्षण क्यों जरुरी है 3

वन संरक्षण क्यों जरुरी है

जानिए वन संरक्षण क्यों आवश्यक है ? Why forest conservation is necessary? आर्थिक और वैज्ञानिक विकास के साथ देश ने जो भी तरक्की की है, वह कई मायनों में भले ही संतोषप्रद कहीं जाए, लेकिन पर्यावरण और वन संरक्षण उनसे जुड़ी दूसरी समस्याओं ने इस विकास पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया है. जल, जंगल और जमीन एक दूसरे...

Plant Wildlife Economic Life Information 0

Plant Wildlife Economic Life Information

पृथ्वी से जुडीं भूमि, वन्य जगत, नदियों के धरातलीय और आर्थिक जीवन के बारे में जानकारी (Land and The People, Plant Wildlife Economic Life Information) मनुष्य और पर्यावरण एक दूसरे पर निर्भर करते है. मनुष्य की जीवन शैली और गतिविधियों पर ही भौतिक और प्राकृतिक पर्यावरण आश्रित है. मनुष्य ने अपनी आवश्यकताओं के अनुसार ही पर्यावरण में बदलाव...

Human Environment, Transport and Communication, Human Settlements, Human Communication मानव द्वारा निर्मित सभी पर्यावरण से जुड़ीं बातों की जानकारी. 0

Human Environment की खास जानकारियाँ

मानवीय पर्यावरण बस्तिया परिवहन तथा संचार (Human Environment Settlements Transport and Communication) आप जानते है कि आदिमानव प्रकृति की गौद में रहता था. आज फिर प्रकार वन्य जीव वनों में रहते है, उसी प्रकार मानव भी वनों में रहता था. और अपने प्राकृतिक पर्यावरण Human Environment से ही अपनी सभी आवश्कताओं की पूर्ति करता था. उस समय न...

जैवमंडल की जानकारी Earth Biosphere 7

जैवमंडल की जानकारी Earth Biosphere

पृथ्वी के जैवमंडल Earth Biosphere के सौरमंडल, वायु, प्राणी जगत, वन्य प्राणी और भी महत्वपूर्ण बातें खास आपके लिए जिस भाग पर जीव निवास करते है वह जैवमंडल Earth Biosphere कहलाता है. पृथ्वी पर समस्त जीवन इस पेटी में ही स्थित है. जैवमंडल की मोटाई केवल २८ किमी है, इसका विस्तार समुद्रतल के नीचे ११ किमी तक तथा...