Category: Hindi Stories

मैथलीशरण गुप्त 0

मैथिलीशरण गुप्त जीवन परिचय

मैथिलीशरण गुप्त मैथिलीशरण गुप्त का जन्म उत्तर प्रदेश के झाँसी जनपद के अंतर्गत चिरगांव के एक प्रतिष्ठित वैश्य परिवार में 13 अगस्त 1886 को हुआ था. इनके पिता सेठ रामचरण निष्ठावान राम भक्त तथा कवि थे. अत: गुप्तजी को कविता करने कि प्रेरणा अपने पिता से प्राप्त हुई. सरस्वती के सम्पादक आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के सम्पर्क में...

शांता की हिंदी कहानी 0

शांता एक हिंदी कहानी

शांता की कहानी शी वाज ए ग्रेसफुल लेडी, जैसे कायदे और सम्मान से वह जीती थी, उसी कायदे और सम्मान से उनका अंतिम संस्कार होना था. तुमने देखा नहीं, मृत्यु के समय भी उनका चेहरा कैसा शांत और निर्विकार था. सचमुच, ममा वाज वेरी ग्रेट. शांत बैठी शांता के काम में हथोड़े से बज रहे थे ये तीनो...

बगीया का माली 0

बगीया का माली Sudha Tailang Story

बगीया का माली सुधा तैलंग द्वारा बगीया का माली कहाँनी में दशरथ प्रसाद के घर में आज जश्न का माहोल नजर आ रहा था. तीनो बेटे बड़े जोश से घर के पिछवाड़े में बने आँगन में रसोईया से खाना बनवा रहे थे. कहने का मेन्यु तीनों बहुओ ने मिलकर तैयार किया था. कचौड़ी, इमरती, गुलाब, जामुन बूंदी या...

तरकीब प्रेरक प्रसंग 0

तरकीब प्रेरक प्रसंग Motivational Story

एक तरकीब प्रेरक प्रसंग यह एक व्यापारी और एक घोड़े के ऊपर इस तरकीब प्रेरक प्रसंग को इस कहानी में दर्शाया गया है. सर्दियों के दिन थे. कडाके की सर्दी पद रही थी. एक दिन एक व्यापारी को किसी काम से अचानक शहर जाना पड़ा. वह अपने घोड़े पर सवार होकर चल दिया. सर्दी के मारे घोड़ा पर...

मनुष्य के कर्म 0

मनुष्य के कर्म की महत्वपूर्ण बाते खास आपके लिए

मनुष्य के कर्म के बारे में कुछ रोचक बाते मनुष्य के कर्म में छिपा है जीवन का मर्म, अच्छे कर्म ही सद्गति के परिचायक है. यदि आप अच्छे कर्म करेंगे तो मौक्ष की प्राप्ति होगी और जन्म मरण के बंधन से मुक्त हो जायेंगे. पंचतन्त्र की कथाओ में कर्म के महत्व को बताया गया है. उपनिषदों में तो सत्कर्म...

स्मृतियों का आकर्षण 0

स्मृतियों का आकर्षण हिंदी कहानी

स्मृतियों का आकर्षण कहानी क्या आप जानते है स्मृतियों का आकर्षण किस तरह से होता है, स्मृतियों का आकर्षण एक बारे में जानिए. स्मृतियों का आकर्षण एक तरह से बचपन की स्मृतियों में एक विचित्र सा आकर्षण होता है. कभी कभी लगता है. जैसे सपने में सब देखा होगा. परिस्थितिया बहुत बदल जाती है. अपने परिवार में मैं कई पीढियों...

महादेवी वर्मा 1

महादेवी वर्मा Life Introduction

श्रीमती महादेवी वर्मा जीवन परिचय महादेवी वर्मा का जन्म २६ मार्च सन १९०७ को फर्रुखाबाद उत्तरप्रदेश के सम्भ्रांत कायस्थ परिवार में हुआ था. आपकी प्रारंभिक शिक्षा इंदौर में हुई. प्रयाग विश्वविद्यालय से संस्कृत में एम.ए करने के पश्चात् प्रयाग महिला विद्यापीठ की प्रचार्य रही. महादेवी वर्मा जी की अपनी रचना नीरजा पर पुरस्कार मिला. आपने चाँद मासिक पत्र...

भोलाराम Hindi Story 0

भोलाराम की कहानी Hindi Story

भोलाराम के जीवन की कहानी ऐसा कभी नहीं हुआ था. धर्मराज लाखों वर्षो से असंख्य आदमियों को कर्म और सिफारिश के आधार पर स्वर्ग या नरक में निवास स्थान, अलोट करते आ रहे थे, पर ऐसा कभी नहीं हुआ था. सामने बैठे चित्रगुप्त बार-बार थूक से पन्ने पलट, रजिस्टर पर देख रहे थे. गलती पकड़ नहीं आ रही...

हरिशंकर परसाई 0

हरिशंकर परसाई Life Introduction

हरिशंकर परसाई हरिशंकर परसाई का जन्म मध्यप्रदेश के इटारसी के पास जमानी नामक ग्राम में २२ अगस्त सन १९२४ ई को हुआ था. इनकी प्रारम्भिक शिक्षा गाँव के स्कूल में ही हुई. उच्च शिक्षा के लिए ये इटारसी और नागपुर गए. बाल्यावस्था से ही कला और साहित्य के प्रति इनका गहरा लगाव था. परसाई जी मुख्यतः व्यंग्य लेखक...

कोणार्क Hindi Story 0

कोणार्क एक हिंदी पट कथा हिंदी कहानी

कोणार्क एक कक्ष का भीतरी भाग. मंदिर की विशाल चार दिवारी के भीतर मुख्य मन्दिर से लगभग पचास गज दक्षिण पूर्व की और एक भोग मंदिर है. यह कमरा उसी में स्थित है और मंदिर के निर्माण के दिनों में महाशिल्पी विशु का निवास स्थान है. सामने तीन द्वार है. जिनमे से बीच वाले को छोड़कर बाकी दोनों...