Category: History Information

भक्ति आन्दोलन 0

भक्ति आन्दोलन कवि Bhakti Movement Poet

भक्ति आन्दोलन भक्ति आन्दोलन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें छठी शताब्दी ई में भक्ति आन्दोलन का शुरुआत तमिल क्षेत्र से हुई जो कर्नाटक और महाराष्ट्र में फैल गई. भक्ति आन्दोलन का विकास बारह अलवार वैष्णव संतो और तिरसठ नयनार शैव संतों ने किया. शैव संत अप्पार ने पल्लव राजा महेंद्रवर्मन को शैवधर्म स्वीकार करवाया. भक्ति कवि संतो को...

सूफी आन्दोलन 0

सूफी समाज Sufi Society History Info

सूफी समाज सूफी समाज से जुड़ी कुछ खास बाते जो लोग सूफी समाज के संतों से शिष्यता ग्रहण करते थे, मुरीद कहा जाता था. सूफी समाज जिन आश्रमों में निवास करते थे, उन्हें खानकाह या मठ कहा जाता था. सूफियों के धर्मसंघ बा-शारा इस्लामी सिधांत के समर्थक और बे-शारा इस्लामी सिधांत से बंधे नहीं में विभाजित थे. भारत...

बहमनी राज्य का इतिहास 0

बहमनी राज्य का इतिहास Bahmani Kingdom

बहमनी राज्य मुहम्मद बिन तुगलक के शासन काल में १३४७ ई में हसनगंगू ने बहमनी राज्य की स्थापना की. वह अलाउद्दीन बहमन शाह के नाम से सिंहासन पर बैठा. इसने अपनी राजधानी गुलबर्गा को बनाया. इसकी राजभाषा मराठी थी. इसने अपने साम्राज्य को चार प्रान्तों में गुलबर्गा, दौलताबाद, बरार और बीदर में बाँटा. बहमनी वंश के प्रमुख शासक...

स्वतंत्र-प्रान्तीय-राज्य 0

स्वतंत्र प्रान्तीय राज्य

स्वतंत्र प्रान्तीय राज्य स्वतंत्र प्रान्तीय राज्य के इतिहास की जानकारी Independent provincial state स्वतंत्र प्रान्तीय राज्य – जौनपुर जौनपुर की स्थापना फिरोजशाह तुगलक ने अपने भाई जौना खा की स्मृति में की थी. जौनपुर में स्वतंत्र शर्की राजवंश की स्थापना मलिक सरवर ख्वाजा जहान ने की थी. ख्वाजा जहान को मलिक-उस-शर्क पूर्व का स्वामी की उपाधि 1394 ई में...

विजयनगर साम्राज्य History in Hindi 1

विजयनगर साम्राज्य History Information

विजयनगर साम्राज्य का इतिहास विजयनगर साम्राज्य की स्थापना १३३६ ई में करिहर और बुक्का नामक दो भाइयों ने की थी. विजयनगर का शाब्दिक अर्थ है. जीत का शहर. हरिहर और बुक्का ने विजयनगर की स्थापना विद्यारण्य संत से आशीर्वाद प्राप्त कर की थी. हरिहर और बुक्का ने अपने पिता संगम के नाम पर संगम राजवंश की स्थापना की....

Ancient Medieval History के बारे में जानकारी 0

India Ancient Medieval History Information

Ancient Medieval History of India प्राचीन मध्यकालीन भारत का इतिहास (Ancient Medieval History) भारत पर अरबों का आक्रमण मुहम्मद बिन कासिम के नेतृत्व ने अरबों ने भारत पर पहला सफल आक्रमण किया. अरबों ने सिंध पर ७१२ ई में विजय पायी थी. अरब आक्रमण के समय सिंध पर दाहिर का शासन था. भारत पर अरबवासियो के आक्रमण का...

सीमावर्ती राजवंश का इतिहास History information in Hindi 0

सीमावर्ती राजवंश History Information

सीमावर्ती राजवंश सीमावर्ती राजवंश का प्राचीन इतिहास राजवंशो में आप कदम्ब वंश, गंगवंश, काकतीय वंश, पालवंश, कश्मीर के राजवंश, सेनवंश, कामरूप का वर्मन वंश, गहड़वाल (राठोर) राजवंश, राजपूत राजवंशो की उत्पत्ति, गुर्जर प्रतिहार वंश, चाहमान या चौहान वंश, चंदेल वंश, कलचूरि वेदि राजवंश, सिसोदिया वंश के इतिहास की जानकारी आप नीचे देखेंगे. सीमावर्ती राजवंश में कदम्ब वंश का इतिहास कदम्ब वंश की स्थापना मयूर शर्मन ने की थी. कदम्ब वंश की राजधानी वनवासी...

हिन्दुस्तान के प्राचीन वंश History in Hindi 0

भारतीय प्राचीन वंश History Information

प्राचीन वंश History प्राचीन इतिहास में चोल वंश, यादव वंश, होयसल वंश के प्राचीन वंश History से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्राचीन वंश History में चोल वंश का इतिहास नौवी शताब्दी में चौल वंश पल्लवों के ध्वंसावशेषों पर स्थापित हुआ. चोल वंश के संस्थापक विजयालय ( ८५०-८७ ई ) था. इसकी राजधानी तान्जाय ( तंजौर या तुन्झुवर ) था....

चालुक्य वंश का इतिहास History in Hindi 3

चालुक्य वंश इतिहास History Information

चालुक्य वंश (कल्याणी) कल्याणी के चालुक्य वंश की स्थापना तैलप-II ने की थी. तैलप-II की राजधानी मानय्खेत थी. चालुक्य वंश कल्याणी के प्रमुख शासक हुए – तैलप प्रथम, तैलप द्वितीय, विक्रमादित्य, जयसिंह, सोमेश्वर, सोमेश्वर-II, विक्रमादित्य-VI, सोमेश्वर-III और तैलप-III. सोमेश्वर प्रथम ने मान्य्खेट से राजधानी हटाकर कल्याणी (कर्णाटक) को बनाया. इस वंश का सबसे प्रतापी शासक विक्रमादित्य-VI था. विल्हण...

प्राचीन वंश का इतिहास 0

प्राचीन वंश India History Information

प्राचीन वंश इतिहास के प्राचीन वंश जिसमे आपको पुष्यभूति, राष्ट्रकूट, पल्लव वंश की जानकारी प्रदान की गई है.   प्राचीन वंश में पुष्यभूति वंश की जानकारी गुप्त वंश के पतन के बाद हरियाणा के अम्बाला जिले के थानेश्वर नामक स्थान पर नरवर्दन के द्वारा पुष्यभूति वंश की स्थापना हुई. पुष्यभूति वंश का सबसे शक्तिशाली शासक प्रभाकरवर्धन था. प्रभाकरवर्धन...