France State Revolution History Information

France State Revolution

फ्रांस की राज्यक्रांति (The France State Revolution)

फ्रांस की राज्यक्रांति 1789 ई में लूई सोलहवाँ के शासनकाल में हुई. इस समय फ्रांस में सामन्ती व्यवस्था थी.



14 जुलाई 1789 ई को क्रांतिकारियो ने बास्तील के काराग्रह के फाटक को तोड़कर बंदियो को मुक्त कर दिया. तब से 14 जुलाई को फ्रांस में राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है.

समानता स्वतंत्रता और बन्धुत्व का नारा फ्रांस का राज्यक्रांति की देन है.

मैं ही राज्य हूँ और मेरे शब्द ही कानून है. यह कथन है लूई चौदहवा का.

वर्साय के शीशमहल का निर्माण लूई चौदहवा ने करवाया था.

वर्साय को फ्रांस की राजधानी लूई चौदहवा ने बनाया था.

लूई सोलहवा 1774 ई में फ्रांस की गद्दी पर बैठा.

लूई सोलहवा की पत्नी मेरी एन्तवानेत आस्ट्रिया की राजकुमारी थी.

राष्ट्र की समाधि वर्साय की भड़कीला राजदरबार था.

लूई सोलहवा को देशद्रोह के अपराध में फाँसी दी गई.

टैले एक प्रकार का भूमि कर था.

फ्रंसीसी क्रांति के वाल्टेयर, मांटेस्क्यू और रूसो ने सर्वाधिक योगदान किया.

वाल्टेयर चर्च का विरोधी था.

रूसो फ्रांस में प्रजातंत्रात्मक शासन पद्धति का समर्थक था.

सौ चूहों की अपेक्षा एक सिंह का शासन उत्तम है, यह उक्ति वाल्टेयर की है.

सोशल कांट्रेक्ट रूसो की और लेटर्स ऑन इंग्लिश वाल्टेयर की रचना है.

कानून की आत्मा की रचना माटेस्क्यू ने की थी.

स्टेट्स जनरल के अधिवेशन की शुरुआत पांच मई 1789 ई में हुई थी.

माप तौल की दशमलव प्रणाली फ्रांस की दें है.

सांस्कृतिक राष्ट्रीयता का जनक हर्डर को कहा जाता है.

नेपोलियन का जन्म 15 अगस्त 1769 ई को कोसिर्का द्वीप की राजधानी अजासियों में हुआ था.

नेपोलियन के पिता का नाम कार्लो बोनापार्ट था.

नेपोलियन ने ब्रिटेन के सैनिक अकादमी में शिक्षा प्राप्त की.

1796 ई में नेपोलियन ने इटली में आस्ट्रिया के प्रमुख को समाप्त किया.

फ्रांस में डायरेक्टरी के शासन का अंत 1799 ई में हुआ.

1804 ई में नेपोलियन फ्रांस का सम्राट बना.

आधुनिक फ्रांस का निर्माता नेपोलियन को माना जाता है.

नेपोलियन ने ही सर्वप्रथम इंग्लैंड को बनियों का देश कहा था.

नेपोलियन ने पत्नी जोजेफाइन को तलाक देकर आस्ट्रिया की राजकुमारी मोरिया लुईसा से शादी की.

France State Revolution in Hindi

France State Revolution in Hindi

ट्राल्फगर का युद्ध इक्कीस अक्टूबर 1805 ई में इंग्लैंड और नेपोलियन के बीच हुआ.

नेपोलियन ने बैंक ऑफ़ फ्रांस की स्थापना 1800 ई में की.

नेपोलियन ने कानूनों का संग्रह तैयार करवाया, जिसे नेपोलियन का कोड कहा जाता है.

नेपोलियन को नील नदी के युद्ध में अंग्रेजी जहाजी बेड़े के नायक नेल्सन के हाथों बुरी तरह पराजित होना पड़ा.

यूरोप के राष्ट्रों ने मिलकर 1813 ई में नेपोलियन को लिपजिंग नामक स्थान पर हरा दिया और उसे बंदी बनाकर एल्बा के टापू पर भेज दिया गया परन्तु वह एल्वा से भाग निकला और पुन: फ्रांस का सम्राट बना.

अंततः मित्र राष्ट्रों की सेना ने नेपोलियन को 18 जून 1815 ई को वाटरलू के युद्ध में उसकी मृत्यु हो गई. नेपोलियन लिटल कारपोरल के नाम से जाना जाता है.

नेपोलियन के पतन का कारण था, उसका रूस पर आक्रमण करना.

इंग्लैंड के वाणिज्य और व्यापार का बहिष्कार करने के लिए नेपोलियन ने महाद्वीपीय व्यवस्था का सूत्रपात किया था.

विएना कांग्रेस समझौता के तहत यूरोप के राष्ट्रों ने 1815 ई में फ्रांस के प्रभुत्व को समाप्त किया.

 

सम्बंधित पोस्ट

History Information 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *