High New General Knowledge Collection


General Knowledge – सामान्य ज्ञान

सामान्य ज्ञान  दुनिया से जुड़े सभी ज्ञान की जानकारी आपको इंडिया हिंदी ब्लॉग के सामान्य ज्ञान High New General Knowledge में आपके लिए हिंदी भाषा में उपलब्ध है

 

बिन्दुसार के बारे में सामान्य ज्ञान (High New General Knowledge about Bindusaar)

चन्द्रगुप्त मौर्य का उत्तराधिकारी बिन्दुसार हुआ, जो २९८ ई पू में मगध की राजगद्दी पर बैठा.




अमित्रघात के नाम से बिन्दुसार जाना जाता है. अमित्रघात का अर्थ है शत्रु विनाशक

बिन्दुसार आजीवक सम्प्रदायक का अनुयायी था.

वायुपुराण में बिन्दुसार को भाद्रसार कहा गया है.

स्ट्रेबो के अनुसार सीरियन नरेश एंटियोकस ने बिन्दुसार के दरबार में डाई मेकस नामक राजदूत भेजा. इसे ही मेगास्थनीज का उत्तराधिकारी माना जाता है.

जैन ग्रन्थों में बिन्दुसार को सिन्ह्सेन कहा गया है.

बिन्दुसार के शासनकाल में तक्षशिला में हुए दो विद्रोहों का वर्णन है. इस विद्रोह का दबाव के लिए बिन्दुसार ने पहले सुसीम को और बाद में अशोक को भेजा.

एथिनियस के अनुसार बिन्दुसार ने सीरिया के शासक एन्टीयोकस १ से मदिरा सूखे मंजीर और एक दार्शनिक भेजने की प्रार्थना की थी.

बौद्ध विद्वान तारानाथ ने बिन्दुसार को १६ राज्यों का विजेता बताया है.

———————————————————————————————————————————–

मौर्य साम्राज्य के बारे में सामान्य ज्ञान (High New General Knowledge about Moury Saamrajy)

मौर्य वंश का संस्थापक चन्द्रगुप्त मौर्य था.

चन्द्रगुप्त मौर्य का जन्म ३४५ ई पू में हुआ था.

धनानंद को हराने में चाणक्य ने चन्द्रगुप्त मौर्य की मदद की थी, जो बाद में चन्द्रगुप्त का प्रधानमंत्री बना.

चाणक्य द्वारा लिखित पुस्तक है अर्थशास्त्र है, जिसका सम्बन्ध राजनीति से है.

चन्द्रगुप्त मगध की राजगद्दी पर ३२२ ई पू में बैठा.

चन्द्रगुप्त जैनधर्म का अनुयायी था.

चन्द्रगुप्त ने अपना अंतिम समय कर्नाटक के श्रवण बेलगोला नामक स्थान पर बिताया.

चन्द्रगुप्त ने ३०५ ई पू में सेल्यूकस निकेटर को हराया.

सेल्यूकस निकेटर ने अपनी पुत्री कार्नेलिया की शादी चंद्र्गुत्प मौर्य के साथ कर दी और युद्ध की संधि शर्तो के अनुसार चार प्रान्त काबुल, कंधार हेरात और मकरान चन्द्रगुप्त को दिए.

चन्द्रगुप्त मौर्य ने जैनी गुरु भद्र बाहू से जैनधर्म की दीक्षा ली थी.

मेगास्थनीज द्वारा लिखी गई पुस्तक इंडिका है.

चन्द्रगुप मौर्य और सेल्यूकस के बीच हुए युद्ध का वर्णन एप्पियानस ने किया है.

प्लूटार्क के अनुसार चन्द्रगुप्त ने सेल्यूकस को ५०० हाथी उपहार में दिए थे.

चन्द्रगुप्त मौर्य की मृत्यु २९८ ई पू में श्रवण बेलगोला में उपवास द्वारा हुई.

———————————————————————————————————————————–

सिकंदर के बारे में आपके लिए सामान्य ज्ञान (High New General Knowledge about Sikandar)

सिकंदर का जन्म ३५६ ई पू में हुआ.

सिकंदर के पिता का नाम फिलिप था.

फिलिप ३५९ ई पू में मकदूनिया का शासक बना. इसकी हत्या ३२९ ई पू में कर दी गई.

सिकंदर अरस्तू का शिष्य था.

सिकंदर ने भारत विजय का अभियान ३२६ ई पू में प्रारम्भ किया.

सिकंदर का सेनापति सेलुकस निकेटर था.

सिकंदर को पंजाब के शासक पोरस के साथ युद्ध करना पड़ा जिसे हाईडेस्पिज के युद्ध या झेलम का युद्ध के नाम से जाना जाता है.

सिकंदर की सेना ने व्यास नहीं को पर करने से इंकार कर दिया.

सिकंदर स्थल मार्ग द्वारा ३२५ ई पू में भारत से लौटा.

सिकंदर की मृत्यु ३२३ ई पू में बेबीलोन में ३३ वर्ष की अवस्था में हो गई.

निर्याकस सिकंदर का जल सेनापति था.

———————————————————————————————————————————–

मगध राज्य का सामान्य ज्ञान (High New General Knowledge of the kingdom of Magadha)

मगध के सबसे प्राचीन वंश के संस्थापक बृहद्र्थ थे.

मगध की राजधानी गिरि ब्रज राजगृह थी.

जरासंघ के पिता का नाम बृहद्र्थ था.

मगध की गद्दी पर बिम्बिसार ५४५ ई पू में बैठा था.

बिम्बिसार हर्यक वंश का संस्थापक था.बिम्बिसार ने ब्रहादत्त को हराकर अंग राज्य को मगध के मिला लिया.

बिम्बिसार बौद्ध धर्म का अनुयायी था.

बिम्बिसार ने राजगृह का निर्माण कर उसे अपनी राजधानी बनाया.

बिम्बिसार में मगध पर करीब ५२ वर्षो तक शासन किया.

महात्मा बुद्ध की सेवा में बिम्बिसार ने राज्वेघ जीवक को भेजा. अवन्ती के राजा प्रघोत जब पांडू रोग से ग्रसित थे उस समय भी बिम्बिसार ने जीवक को उनकी सेवा सुश्रुषा के लिए भेजा था.

बिम्बिसार ने वैवाहिक सम्बध स्थापित कर अपने साम्राज्य का विस्तार किया. इसने कौशल नरेश प्रसेनजित की बहन महाकौशला से, वैशाली के चेटक की पुत्री चेल्लना से तथा मद्र देश आधुनिक पंजाब की राजकुमारी क्षेमा से शादी की.

बिम्बिसार की हत्या उसके पुत्र अजात शत्रु ने कर दी और वह ४९३ ई पू में मगध की गद्दी पर बैठा.

अजातशत्रु का उपनाम कुणिक था.

अजात शत्रु ने ३२ वर्षो तक मगध पर शासन किया.

अजातशत्रु के सुयोग्य मंत्री का नाम वर्षकार था. इसी की सहायता से अजातशत्रु ने वैशाली पर विजय प्राप्त की.

अजातशत्रु की हत्या उसके पुत्र उदायिन ने ४६१ ई पू में कर दी और वह मगध की गद्दी पर बैठा.

उदायिन ने पाटिल ग्राम की स्थापना की.

उदायिन भी जैनधर्म का अनुयायी था.

हर्यक वंश का अंतिम राजा उदायिन का पुत्र नागद्शक था.

नागदशक को उसके अमात्य शिशुनाग ने ४१२ ई पू में अपदस्थ करके मगध पर शिशुनाग वंश की स्थापना की.

शिशुनाग ने अपनी राजधानी पाटलिपुत्र से हटाकर वैशाली में स्थापित की.

शिशुनाग का उत्तराधिकारी कालाशोक पुनः राजधानी को पाटलिपुत्र ले गया.

शिशुनाग वंश का अंतिम राजा नंदीवर्धन था.

नन्द वंश का संस्थापक महापद्म नन्द था.

नन्द वंश का अंतिम शासक घना नन्द था. यह सिकंदर का समकालीन था. इसे चन्द्रगुप्त मौर्य ने युद्ध में पराजित किया और मगध पर एक नए वंश मौर्य वंश की स्थापना की.

———————————————————————————————————————————–

ईसाई धर्म के बारे में सामान्य ज्ञान (High New General Knowledge about Christianity)

ईसा मसीह ईसाई धर्म के संस्थापक है.

बाइबिल ईसाई धर्म का प्रमुख ग्रन्थ है.

ईसा मसीह का जन्म जेरुसेलम के निकट बेथलेहम नामक स्थान पर हुआ था.

ईसा के जन्म दिवस को क्रिसमस के रूप में मनाया जाता है.

ईसा मसीह के माता का नाम मेरी और पिता का नाम जोसेफ है.

ईसा ने अपने जीवन के प्रथम ३० वर्ष एक बढ़ई के रूप में बेथलेहम के निकट नाजरेथ में बिताये.

एनडूस और मीटर ईसा मसीह के प्रथम दो शिष्य थे.

ईसा मसीह को सूली पर रोमन गवर्नर पोंटियस ने चढ़ाया.

ईसा मसीह को ३३ ई में सूली पर चढाया गया.

ईसाई धर्म का सबसे पवित्र चिन्ह क्रास है.

ईसाई त्रित्व में विश्वास रखते है, वे है ईश्वर पिता, ईश्वर पुत्र, ईश्वर पवित्र आत्मा

—————————————————————————————————————————————–

इस्लाम धर्म के बारे में सामान्य ज्ञान (General knowledge about Islam)

इस्लाम धर्म के संस्थापक हजरत मुहम्मद थे.

हजरत मुहम्मद का जन्म ५७० ई मक्का में हुआ था.

हजरत मुहम्मद के पिता का नाम अब्दुल्ला और माता का नाम अमीना था.

हजरत मुहम्मद को ६१० ई में मक्का के पास हीरा नामक गुफा में ज्ञान की प्राप्ति हुई.

24 सितम्बर ६२२ ई को पैगम्बर के मक्का से मदीना की यात्रा इस्लाम जगत में मुस्लिम सम्वत हिजरी संवत के नाम से जाना जाता है.

मुहम्मद की शादी २५ वर्ष की अवस्था में खदीजा नामक विधवा के साथ हुई.

देवदूत ग्रेब्रियल ने पैगम्बर मुहम्मद को कुरान अरबी भाषा में सम्प्रेषित की.

कुरान इस्लाम धर्म का पवित्र ग्रन्थ है.

पैगंबर मुहम्मद की मृत्यु ८ जून ६३२ को हुई, इन्हें मदीना में दफनाया गया.

मुहम्मद की मृत्यु के बाद इस्लाम सुन्नी तथा शिया नामक दो पन्थो में विभाजित हो गया.

सुन्नी उन्हें कहते है जो सुन्ना में विश्वास करते है. सुन्ना पैगम्बर मुहम्मद के कथनों तथा कार्यों का विवरण है.

शिया अली की शिक्षाओ में विश्वास करते है तथा उन्हें मुहम्मद का न्यायसम्मत उत्तराधिकारी मानते है. अली मुहम्मद के दामाद थे.

अली की सन ६६१ ई में हत्या कर दी गई. अली के पुत्र हुसेन की हत्या ६८० ई में कर्बला नामक स्थान पर कर दी गई. इन दौनो हत्या ने शिया को निश्चित मत का रूप दे दिया.

पैगम्बर मुहम्मद के उत्तराधिकारी खलीफा कहलाये.

इस्लाम जगत में खलीफा पद १९२४ तक रहा. १९२४ ई में इसे तुर्की के शासक मुस्तफा कमाल पाशा ने समाप्त कर दिया.

इब्न इशाक ने सर्वप्रथम पैगम्बर साहब का जीवन चरित लिखा.

मुहम्मद पैगम्बर के जन्म दिन पर ईद ए मिलाद उन नबी पर्व मनाया जाता है.

—————————————————————————————————————————————–

वैष्णव धर्म के बारे में सामान्य ज्ञान की जानकारी General Knowledge

वैष्णव धर्म के विषय में प्रारम्भिक जानकारी उपनिषदों से मिलती है. इसका विकास भगवत धर्म से हुआ.

वैष्णव धर्म के प्रवर्तक कृष्ण थे, जो वृषण कबीले के थे और जिनका निवास स्थान मथुरा था.

कृष्ण का उल्लेख सर्वप्रथम छान्दोग्य उपनिषद में देवकी पुत्र और अंगिरस के शिष्य के रूप में हुआ है.

 

विष्णु के दस अवतार इस प्रकार है.

पहला – मत्स्य

दूसरा – कूर्म

तीसरा – वराह

चौथा – नरसिंह

पांचवा – वामन

छठा – परशुराम

सातवा – राम

आठवा – बलराम

नौवा – बुद्ध

दसवा – कल्कि

 

वैष्णव धर्म में ईश्वर को प्राप्त करने के लिए सर्वाधिक महत्व भक्ति को दिया गया है.

 

वैष्णव धर्म के प्रमुख सम्प्रदाय मत और आचार्य

प्रमुख सम्प्रदाय – वैष्णव सम्प्रदाय

मत – विशिष्टाव्देत

आचार्य – रामानुज

 

प्रमुख सम्प्रदाय – ब्रम्हा समप्रदाय

मत – व्देत

आचार्य – आनंदतीर्थ

 

प्रमुख सम्प्रदाय – रूद्र सम्प्रदाय

मत – शुद्दाव्देत

आचार्य – वल्लभाचार्य

 

प्रमुख सम्प्रदाय – सूनक सम्प्रदाय

मत – व्देताव्देत

आचार्य – निबार्क

 

 

वैष्णव धर्म के प्रमुख सम्प्रदाय संस्थापक और पुस्तक

प्रमुख सम्प्रदाय – बरकरी

संस्थापक – नामदेव

पुस्तक – नामदेव

 

प्रमुख सम्प्रदाय – श्री वैष्णव

संस्थापक – रामानुज

पुस्तक – ब्रह्मसूत्र

 

प्रमुख सम्प्रदाय – परमार्थ

संस्थापक – रामदास

पुस्तक – दासबोध

 

प्रमुख सम्प्रदाय – रामभक्त

संस्थापक – रामानंद

पुस्तक – अध्यात्म रामायण

 

वैष्णव धर्म के सम्प्रदाय और संस्थापक

सम्प्रदाय – आजीवक

संस्थापक – मक्खलीपुत्र

 

सम्प्रदाय – घोर आक्रियावादी

संस्थापक – पूरण कश्यप

 

सम्प्रदाय – यदृच्छावाद

संस्थापक – आचार्य अजित

 

सम्प्रदाय – भौतिकवादी

संस्थापक – पकुध कच्चापन (भौतिक दर्शन)

 

सम्प्रदाय – अनिश्च्यवादी

संस्थापक – संजय वेट्ठलिपुत्र

—————————————————————————————————————————————–

 

सूर्य भी छोड़ता है संगीत की स्वर लहरी High New General Knowledge

यह एक आश्चर्यजनक सच है कि हमसे बहुत दूर आकाश से धरती पर जीवनदायी प्रकाश देने वाले सूर्य में भी संगीत है. पूरे ब्रम्हांड में सूर्य अपनी ही सरगम छेड़ता है. अन्य किसी संगीत वाघ की तरह सूर्य के पास भी कई स्वर है. एक पियानों में तो ८८ फ्रीक्वेंसी होती है, जबकि सूर्य के पास १०० लाख फ्रिक्वेंसिया है. वे भी अलग अलग इस तथ्य पर नजर गडाए है.

ग्लोब ओर्किलिएशन नेटवर्क ग्रुप की उद्यपुर में स्थित वेधशाला, जो गींगी की विश्व की छह वेधशालाओ में से एक है. यह वेधशाला सूर्य में होते रहने वाले सूक्ष्म कम्पन्न का अध्ययन कर रही है.

भूगर्भ शास्त्री पृथ्वी की आंतरिक रचना General Knowledge का पता जानने के लिए धरती के ऊपर होने वाले कम्पनो का अध्ययन कर रहे है. सूर्य की सतह पर कम्पन्न की जानकारी साठ के दशक में प्राप्त हुई थी. एक शोध के अनुसार सूर्य की सतह स्थिर फ्रीक्वेंसी के दौरान ऊपर नीचे होती है

यह फ्रीक्वेंसी ५ मिनिट तक रहती है. संगीत की भाषा में इसका अनुवाद किया तो एक सेकंड में २० उव्देग से खगोलशास्त्री आश्चर्य चकीत रह गए. सूर्य ने सिर्फ हवा के विचरण करते रहने की उनकी मान्यता गलत सिद्ध हुई.

यह शोध १९६० में हुआ था. मगर इसकी विस्तृत जानकारी स्तर के दशक में मिली. संगीत की भाषा में षड्ज स्वर के लिए बड़ा पात्र उत्तम होता है. इसी तरह सूर्य के अन्दर तरंग पैदा होकर चारो और फेलती है. एक फ्रीक्वेंसी के लिए यह आवाज बिलकुल “षड्ज स्वर” लिए हुए होती है.

—————————————————————————————————————————————–

विभिन्न देशो के राष्ट्रगान High New General Knowledge

भारत के राष्ट्रगान में ५ अंतरे हैं. इसे हिंदी रूपांतरण के साथ २४ जनवरी १९५० को अपनाया गया.

भारत – जन गण मन अधिनायक जय है भारत भाग्य विधाता.

पाकिस्तान – ब्लेस्ट वी द सेक्रेड लेंड, हैप्पी वी द बाउंटियस रियाल्स, सिबल ऑफ़ हाई रिजाल्व, लेंड ऑफ़ पाकिस्तान.

नेपाल – श्रीमान गुम्बिस नेपाली प्रचंडा भूपति, श्री पच सर्कार महाराजाधिराज को सदा रहोस उन्नति.

बांग्लादेश – अमार सौनार बाग्लां (माय गोल्डन बाग्लां) फार एवर योर स्काईस.

रूस – रशिया अवर होली कंट्री, रशिया अवर बिलक कंट्री.

अमेरिका – द स्टार स्पेगल्ड बेनर.

जर्मनी – यूनिटी एंड फ्रीडम.

चीन – मार्च ऑफ़ द वालन्टियर्स.

कनाड़ा – ओ केनेडा, अवर होम एंड नेटिव लेंड.

ब्रिटेन – गॉड सेव द क्वीन.

—————————————————————————————————————————————–

अजीब पौधे High New General Knowledge

चन्द्र पौधा – हिमालय पर्वत पर सोम ओषधि नाम का पौधा पाया जाता है जिसका शुक्ल पक्ष की चाँदनी रात में रोज एक पत्ता निकलता है, जिसकी संख्या पूर्णिमा तक १५ हो जाती है, फिर कृष्ण पक्ष को उसका एक पत्ता रोज गिरने लगता है. इस समय अमावस्या तक सारे पत्ते गिर जाते है. फिर यह पौधा सूखी लकड़ी की तरह हो जाता है, जो की रात के अँधेरे में चमकता है.

धुआ छोड़ने वाला पेड – जापान में एक ऐसा अनोखा पेड़ पाया गया है जो सूर्यास्त के बाद धुआ छोड़ने लगता है.

रोने वाला वृक्ष – फेनरी नापक द्वीप में अधिक पाए जाने वाला लाडरेले नामक वृक्ष खतरे के तनिक सा आभास होने पर भय से रोने लगता है. इसी तरह मडेड नामक वृक्ष की आकृति मनुष्य की शक्ल से काफी मिलती जुलती है. इसे उखाड़ने का प्रयास करने पर यह बच्चो की भाति रोने लगता है.

—————————————————————————————————————————————–

जनरल नोलेज High New General Knowledge

भारत में सबसे प्रथम बार मैच अंग्रेजी द्वारा १९३३ में खेला गया था.

दिल्ली का लाल किया शाहजहाँ ने बनवाया था.

रविन्द्रनाथ टेगोर ने महात्मा गान्धी को सर्वप्रथम “महात्मा” कहाँ था.

कृष्णा नदी वह नदी है, जिसमे हीरे पाए जाते है, जो की दक्षिणी भारत में है.

भारत में आजादी के बात पहली जनगणना १९६१ में हुई थी.

मुंशी प्रेमजी का अंतिम उपन्यास गौदान है.

महात्मा गांधी का भारत छोड़ो आन्दोलन मुंबई से शुरू हुआ था.

शिवाजी की माँ का नाम जीजा बाई था.

महाभारत का पुराना नाम जयसंहिता था.

विश्व में नील नदी ऐसी है. जिसका पानी गर्म होता है.

संसार में सबसे पहले पुस्तक छापने वाले का नाम कोस्टर था.

विश्व में सबसे महँगी वस्तु युरेनियम है.

विश्व में सबसे महंगा पशु रेस का घोडा होता है.

जार्डन में एक ऐसा समुद्र है, जहाँ पर मछलियाँ नहीं पाई जाती है. उस समुद्र का नाम मृत सागर है.

संसार में सबसे बड़ा कछुआ आस्ट्रेलिया में पाया जाता है.

गरनार्ड मछली ऐसी है, जो की पानी में तेरती है, जमीन पर चलती है तथा हवा में उडती भी है

—————————————————————————————————————————————–

स्वछंदता High New General Knowledge

रूस में जब जार का शासन समाप्त हुआ और स्वतंत्रता मिली तो एक बुढ़िया बीच सड़क में बिस्तर बिछाकर सो गई और कहने लगी. अब स्वाधीन देश में मुझे कौन सकता है. यहाँ सोने से? क्योकि मैं अब आजाद हूँ.

लोगो ने बहुत समझाया किन्तु वह अपनी हाथ पर डटी रही. तब एक सज्जन ने समझाया माताजी जैसे आप सड़क पर सोने के लिए आजाद है, उसी प्रकार कोई भी आपके ऊपर गाडी चढाने के लिए भी आजाद है.

यह सुनकर बुढ़िया अपना बोरिया बिस्तर समेत कर चलती बनी. उसे समझ में आ गया की स्वतंत्रता का अर्थ स्वछंदता नहीं है.

—————————————————————————————————————————————–

क्या कोई मकड़ी चिड़िया खा सकती है ? High New General Knowledge

सामान्य हम मकड़ियों को छोटे छोटे कीड़ों को अपने जाल में फँसाकर खाते देखते है, कोई मकड़ी चिड़िया भी पकड़कर खा सकती है, यह बात सुनने में अटपटी जरुर लगती है, लेकिन उष्ण कटिबंधीय क्षेत्र के कुछ देशो में कुछ ऐसी वृत्ताकार मकड़िया पाई जाती है, जो चिडियों को पकड़ कर खा जाती है. इन्हें चिड़िया खाने वाली मकड़ियाँ (Bird Eating Spiders) कहा जाता है.

चिड़िया खाने वाली इस मकड़ियों की टांगो का फैलाव लगभग २५ से.मी तथा शरीर की मलबे ९ से.मी. होती है. चिड़िया के अलावा ये दूसरे छोटे-छोटे जन्तुओ को भी चट कर जाती है. ये मकड़ियाँ मनुष्यों के लये अधिक हानिकारक नहीं है. लेकिन इनके काटने से बहुत तेज दर्द होता है.

चिड़िया खाने वाली मकड़ियाँ पेड की टहनियों या खोखले में अपने जाले बनाती है. कुछ तो जमीं में दो फुट गहरे गड्डे बनाकर उन्हें अपने जालो से ढँक देती है. जालों के तंतु बहुत मजबूत होते है. यदि इन जालों में शिकार एक बार फँस जाये तो वह बच कर जा सकता. जैसे जी शिकार फँसता है, मकड़ी उस पर एक विषेला गन्दा तरल पदार्थ फेंकती है. इस पदार्थ के विषेले प्रभाव से शिकार मर जाता है और धीरे धीरे मकड़ी उसे खा जाती है.

—————————————————————————————————————————————–

High New General Knowledge

यदि कद्दू की जड़ को एक सिरे से दुसरे सिरे तक फैलाया जाए, तो वह २४ किमी तक फैल जाएगी.
रात को सोते समय ओसतन हमारा वजन ११ ओंस कम हो जाता है.
विश्व में फ़्रांस ही ऐसा देश है, जहाँ पर मच्छर नहीं है.
सिंग नाईट चूं (चीन) ही एक ऐसा शहर है, जहाँ पाँच सूर्य दिखाई देते है.
दक्षिण आस्ट्रेलिया में आयार्क राक पहाड़ी है, जो प्रतिदिन अपना रंग बदला करती है.

High New General Knowledge

High New General Knowledge

फिलिस्तीन में जार्जन नदी में ऐसी नदी है, जिसमे मछली नहीं पाई जाती है.
संसार का सबसे व्यस्त हवाई अड्डा अमेरिका के शिकागो शहर में है, जहाँ हर एक घंटे में लगभग ८५ हवाई जहाज उतरते और उड़ान भरते है.
नार्वे ही ऐसा देश है जहाँ रात को बारह बजे कुछ समय के लिए सूर्य उदय होता है.
एक मच्छर के मूँह में २२ दांत होते है.
गरनाई मछली ही ऐसी मछली है जो पानी में तैरती है, जमीन पर चलती है और हवा में उड़ती है.
हरियल पक्षी अपने जीवन में कभी भी जमीन पर पैर नहीं रखता है.
अफ्रीका का मैडूक पौधा ऐसा है जिसकी शक्ल आदमी से मिलती है और उसे उखाड़ने पर उसमे से बच्चे के रोने की आवाज आती है.
तारपीडो, इलेक्ट्रिक ईल मछली करंट पैदा करती है.

—————————————————————————————————————————————–

अहमदनगर जिले में प्रवरा नामक नदी के तट पर सतराता सौनगाँव ध्वनि आती है. यह ध्वनि आती है. यह ध्वनि शिवलिंग पर डाले जाने वाले जल की निकासी के लिए बनवाई गई नाली में से आती है.

—————————————————————————————————————————————–

सूर्य की किरणों में लगभग १० अरब प्रकार के रंग होते है. लेकिन हमारी आँखे उनमे से केवल लाम से लेकर बेंगनी तक एक-एक रंग सप्तक तथा उनके सम्मिश्रण को ही देख पाती है.

—————————————————————————————————————————————–

High New General Knowledge अफ्रीका के घने जंगलो में एक ऐसा वृक्ष पाया जाता है, जो प्रतिदिन ५ गायो के बराबर दूध दे सकता है. यह दूध भी गाय के समान ही पाचक, गुणकारी तथा स्वास्थ्यवर्धक होता है.

—————————————————————————————————————————————–

अमेरिका के उष्ण प्रदेश में जमेका में सिकेलस नामक वृक्ष पाया जाता है. जिसकी आकृति नारियल के पेड के समान होती है. इसका फल लगभग २० किलोग्राम का होता है. जब हम फल पककर जमीन पर गिरता है, तो जोर से फटाके की जैसी धडाम की आवाज होती है.

—————————————————————————————————————————————–

केलिफोर्निया के जंगलो तथा आस्ट्रेलिया व तस्मानिया क्षेत्रों में यूकेलिप्टस नेग्नास नामक वृक्ष पाया जाता है, जिसकी ऊँचाई लगभग ३२५ फूट होती है.

—————————————————————————————————————————————–

अफ्रीका के जंगलो में वाओबाब नामक एक वृक्ष पाया जाता है. जिसका तना इतना मोटा होता है कि अगर सूत का धागा उस पर लपेटा जाए तो ६३० फिट लंबे धागे की आवश्यकता होगी.

—————————————————————————————————————————————–

फ़्रांस के एलोतेली नारमेंडी में एक ओक का वृक्ष पाया जाता है, जो लगभग १ हजार साल पुराना है. इसकी विशेषता यह है की इसका ताना इतना मोटा होता है. कि उसे खोखला करके उसमे २ मंजिला गिरिजाघर बनाया गया है. यह पेड़ अभी भी मौजूद है.

 

सम्बंधित पोस्ट

सामान्य ज्ञान 18 Important Things

 

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *