Malaria Treatment मच्छर से मलेरिया इलाज


मच्छर से मलेरिया का इलाज Malaria Treatment in Hindi

Malaria Treatment मच्छर से मलेरिया इलाज

Malaria Treatment मच्छर से मलेरिया इलाज

इसे कहते है मियाँ की जुती मियाँ के सर जी हाँ, अब मच्छर लड़ेगा मलेरिया से, सुनने में बड़ा अटपटा लगता है और लगे भी क्यों न, जिस मलेरिया का नाम लेते ही जेहन में मच्छरों के तस्वीर उभरती है. उसी का उपयोग मलेरिया से मुक्ति दिलाने के रूप में किया जा रहा हो तो यह स्वाभाविक ही है.




 

यह कारनामा यूरोपीय वैज्ञानिको ने किया है. मच्छर को मलेरिया से मुक्ति अभियान का सिपाही बनाया है. जर्मिनी और ब्रिटेन के वैज्ञानिको ने इस अभियान की नीव तो तीन साल पहले वैज्ञानिको ने रख दी थी, लेकिन इसमें निर्णयक सफलता पिछले दिनों ही मिली.

 

जर्मनी में हाइडल वर्ग स्थित यूरोपियन बायोलोजी लेबोरेटरी के वैज्ञानिक तथा लंदन स्थित इम्पीरियल कालेज के विधार्थियों चिकित्सकों ने तीन साल पहले ही मच्छर की जेनोम प्राणी में फेर बदल करके मच्छर को शत्रु से मित्र बनाने का करिश्मा कर दिखाया था.

 

दरअसल इन वेज्ञानिको ने किया यह है कि मच्छर के जीनोम में एक पराया जीन डाल दिया. यह मार्कर का काम करने लगा. यानी मलेरिया के वंशाणुओ को काबू में कर लिया गया. इसका नतीजा यह निकला कि अब वैज्ञानिको के हाथ में मच्छरों की वंश वृद्धि का नियंत्रण आ गया.

 

वास्तव में वैज्ञानिक ने किया. यह है कि मलेरिया पैदा करने वाले परजीवी के साथ सदियों से चले आ रहे मलेरिया मच्छर के रिश्ते में दरार दाल दी. यूरोपीय वैज्ञानिकों के बाद विश्व के कई वैज्ञानिकों ने इस प्रयोग को सिद्ध किया.

 

अगले कुछ सालों में ऐसा मच्छर तैयार हो जाएगा जो सुरक्षित होगा और मलेरिया पैदा करने वाले परजीवी को फ़ैलाने में असमर्थ होगा. वास्तव में जून २०० में नेशनल ह्यूमन जीनोम रिसर्च इंस्टीटयूट द्वारा मनुष्य के जटिल जेनेटिक मेप को स्पष्ट कर दिए जाने पर यह प्रयोग सिद्ध हो सका.

 

गोरतलब है कि तमाम चिकित्सकीय प्रगति के बावजूद हर साल ५० करोड़ लोग मलेरिया से संक्रमित होते है. और उनमे से २५ लाख से ज्यादा अपने प्राण गवां बैठते है. यह रोग अत्यंत सूक्ष्म परजीवी प्लासमोडियम से पैदा होता है. यह एक कोशिका वाला प्रोतोजोवा है. एक बार मनुष्य की रक्त प्रणाली में घुसपैठ होने पर यह परजीवी मनुष्य के जिगर में आसन जमा लेता है. और इतनी संख्या बड़ा देता है कि रक्त में उपस्थित लाल कोशिकाओ को मकाबले में पीछे धकेल देता है. तो इस प्रणाली के आने के बाद हम यह आशा कर सकते है कि आने वाला कल मलेरिया मुक्त होगा.

 

सम्बंधित पोस्ट

शरीर को योग से लाभ Yoga Benefits

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *