Renaissance World History Information


Renaissance World History पुनर्जागरण

Renaissance World History में देखे तो पुनर्जागरण का प्रारंभ इटली के फ्लोरेंस नगर से माना जाता है.

इटली के महान कवि दाँते 1260-1321 ई को पुनर्जागरण का अग्रदूत माना जाता है. इनका जन्म फ्लोरेंस नगर में हुआ था.



दाँते ने प्राचीन लैटिन भाषा को छोड़कर तत्कालीन इटली की बोलचाल की भाषा टस्कन में डिवाइन कामेडी नामक काव्य लिखा. इसमें दाँते ने स्वर्ग और नरक की एक काल्पनिक यात्रा का वर्णन किया है.

दाँते के बाद पुनर्जागरण की भावना का प्रश्रय देनेवाला दूसरा व्यक्ति पेट्राक 1304-1367 था.

पेट्राक को मानववाद का संस्थापक माना जाता है. वह इटली का निवासी था.

इटालियन गद्य का जनक कहानीकार बोकेशियो 1313-1375 ई को माना जाता है.

कहानीकार बोकेशियो की डेकामेराँन प्रसिद्ध पुस्तक है.

आधुनिक विश्व का प्रथम राजनितिक चिन्तक फ्लोरेंस निवासी मैकियावेली 1469-1567 ई को माना जाता है.

मैकियावेली की प्रसिद्ध पुस्तक है – द प्रिंस जो राज्य का एक नवीन चित्र प्रस्तुत करती है.

आधुनिक राजनितिक दर्शन का जनक मैकियावेली को कहा जाता है.

पुनर्जागरण की भावना की पूर्ण अभिव्यक्ति इटली के तीन कलाकारों की कृतियों में मिलती है ये कलाकार थे. लियोनार्दो द विंची, माइकेल एंजलो और राफेल.

लियोनार्दो द विंची द लास्ट सपर और मोनालिसा नामक अमर चित्रों के रचयिता होने के कारण प्रसिद्ध है.

माइकल एंजलो भी एक अद्भुत मूर्तिकार और चित्रकार था.

द लास्ट जजमेट और द फाल ऑफ़ मैन माइकल एंजलो की कृतियाँ है.

सिस्तान के गिरजाघर की छत में माइकल एंजलो के द्वारा ही चित्र बनाए गए है.

राफेल भी इटली का एक चित्रकार था, इसकी सर्वश्रेष्ठ कृति जीसस क्राइस्ट की माता मेडोना का चित्र है.

पुनर्जागरण काल में चित्रकला का जनक जियाटो को माना जाता है.

पुनर्जागरण काल का सर्वश्रेष्ठ निबंधकार इंग्लैंड का फ्रांसीसी बेकन था.

होलैंड के इरासमस ने अपनी पुस्तक द प्रेज आप फौली में व्यंग्यात्मक ढंग से पादरियों के अनैतिक जीवन और ईसाई धर्म की कुरीतियों पर प्रहार किया है.

इंग्लैंड के लेखक टामस मूर ने अपनी पुस्तक यूटोपिया में आदर्श समाज का चित्र पुस्तक किया है.

मार्टिन लूथर ने जर्मन भाषा में बाइबिल का अनुवाद प्रस्तुत किया है.

रोमियो एण्ड जूलियट शेक्सपियर इंग्लैंड की अमर कृति है.

renaissance world history पुनर्जागरण

renaissance world history पुनर्जागरण

इंग्लैंड के रोजर बेकन को आधुनिक प्रयोगात्मक विज्ञान का जन्मदाता माना जाता है.

पृथ्वी सौरमंडल का केंद्र है इस का खंडन सर्वप्रथम पोलैंड निवासी कोपरनिकस ने किया.

गैलीलियो 1560 – 1642 ई ने भी कोपरनिकस के सिधांत का समर्थन किया.

जर्मनी के प्रसिद्ध वैज्ञानिक केपला या केपलर 1571 – 1630 ई ने गणित की सहायता से यह बतलाया कि ग्रह सूर्य के चारों और किस प्रकार घूमते है.

न्यूटन 1642 – 1726 ई ने गुरुत्वाकर्षण के नियम का पता लगाया.

धर्म सुधार आन्दोलन की शुरुआत 16 वी सदी में हुई.

धर्म सुधार आन्दोलन का प्रवर्तक मार्टिन लूथर था, जो जर्मनी का रहनेवाला था. इसने बाइबिल का अनुवाद जर्मन भाषा में किया.

धर्म सुधार आन्दोलन की शुरुआत इंग्लैंड में हुई.

जॉन विकलिफ को धर्म सुधार आन्दोलन का प्रात:कालीन तारा कहा जाता है. इसके अनुयायी लोलार्ड्स कहलाते थे.

अमरीका की खोज क्रिस्टोफर कोलंबस ने की थी.

अमेरिगो बेस्पुसी इटली के नाम पर अमेरिका का नाम अमेरिका पड़ा.

प्रशांत महासागर का नामकारण स्पेन निवासी मैगसन ने किया.

समुद्री मार्ग से सम्पूर्ण विश्व का चक्कर लगानेवाला प्रथम व्यक्ति मैगलन था.

 

indiahindiblog

India Hindi Blog हिंदी भाषी लोगो के लिए बनाया गया है, ये भारत के उन सभी लोगो के लिए है जो खुद ऑनलाइन पढ़ना चाहते है, अपने ज्ञान को बढाना चाहते है. हर तरह की जानकारियों से अपने आपको अपडेट रखना चाहते है. इसलिए हमारे द्वारा इस ब्लॉग को आपके लिए तैयार किया गया. आप इस ब्लॉग में सभी तरह की जानकारियों का ज्ञान ले सकते है. इस ब्लॉग में आपको चिकित्सा, टेक्नोलॉजी, खेल, सामान्य ज्ञान, इतिहास, अनमोल विचार, इन सभी का संग्रह आपके लिए यहाँ पर उपलब्ध है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *