गीता के द्वारा जीवन की कला

भागवत गीता जीने की कला सिखाती है महाभारत ग्रन्थ में गीता सर्वोच्च स्थान पर विराजती है. उसका दूसरा अध्याय भौतिक युद्ध का व्यवहार सिखाने के बदले स्थितप्रज्ञ के लक्षण सिखाता है. स्थितप्रज्ञ का सांसारिक के साथ कोई सम्बंध नहीं हो सकता. यह बात मुझे तो उसके लक्षणों में ही निहित दिखाई दी है. परिवार के मामूली झगड़े के...