Tagged: पंचवटी

पंचवटी का सौदर्य 1

पंचवटी का सौदर्य Panchavati

पंचवटी का सौदर्य पंचवटी का सौदर्य जिसमे पंचवटी मैथलीशरण गुप्त ने प्रकृति के सौदर्य का दर्शाया है. आँखों के आगे हरियाली रहती है हर घड़ी यहाँ जहाँ तहाँ झाड़ी में झिरती है झरनों की झड़ी यहाँ वन की एक-एक हिमकणिका जैसी सरस और शुचि है, क्या सौ-सौ नागरिक जनों की वैसी विमल रम्य रूचि है? सन्दर्भ प्रसंग –...

पंचवटी का सारांश 2

पंचवटी का सारांश Summary of Panchavati

पंचवटी का सारांश पंचवटी राष्ट्रकवि मैथलीशरण गुप्त का प्रसिद्ध खंडकाव्य है. भगवान श्री राम ने सीता और लक्ष्मण सहित चौदह वर्ष की वनवास अवधि में तेरह वर्ष पंचवटी नामक वन में बिताये थे. पंचवटी महाराष्ट्र में नासिक के निकट गोदावरी नदी के तट पर स्थित है. पंचवटी के प्राकृतिक सौन्दर्य का वर्णन इस खंडकाव्य में किया गया है....